नोबेल पुरस्कारों के बारे में कुछ दिलचस्प बातें Some interesting things about the Nobel Prizes

स्वीडिश वैज्ञानिक और शोधकर्ता अल्फ्रेड नोबेल ने 27 नवम्बर 1895 में अपनी वसीयत में लिखा कि उनकी बैंक में जमा संपत्ति से मिलने वाले ब्याज से उन लोगो को नोबेल पुरस्कार दिए जायेगे जिन्होंने पिछले वर्षों में मानव जाति को अपने प्रयासों से सबसे बड़ा लाभ पहुँचाया है| उनके परिवार के नोबेल पुरस्कार की स्थापना का विरोध किया, और वह व्यक्ति जिसे उन्होंने नोबेल पुरस्कार देने के लिए नामित किया था उसने ऐसा करने से इनकार कर दिया था| इस वजह से पहला पुरस्कार 5 वर्ष बाद 1901 में दिया जा सका| उसकी वसीयत में उन्होंने पुरस्कार निधि के लिए 31 मिलियन SEK (आज के समय में 265 मिलियन डॉलर) छोड़ दिया|

अल्फ्रेड नोबेल स्वीडिश रसायनज्ञ, आविष्कारक, इंजीनियर, उद्यमी, व्यापारी, लेखक और शांतिवादी व्यक्ति थे| 21 अक्तूबर 1933 में जन्मे अल्फ्रेड नोबेल ने डायनामाइट का आविष्कार किया था और उनके पास 355 पेटेंट थे| नोबेल ने बैलिसटाईट (ballistite) का भी आविष्कार किया था, जो विस्फोटकों में प्रयोग किया जाता था| 1888 में नोबेल ने एक फ्रेंच अख़बार में लेख पढ़ा जिसका शीर्षक था ‘मौत का व्यापारी मर चुका है (The merchant of death is dead)’ , यह उनके भाई लुडविग के बारे था जिसकी 8 वर्ष की उम्र में ही मृत्यु हो गयी थी| इस लेख ने नोबेल को काफी प्रभावित कर दिया और वह इस बात के लिए आशंकित हो गए कि उन्हें कैसे याद किया जाएगा| इस प्रकार वह अपनी वसीयत बदलने के लिए प्रेरित हुए| 10 दिसंबर 1896 में, अल्फ्रेड नोबेल का मस्तिष्क रक्तस्त्राव से, सैन रेमो, इटली में अपने बंगले में निधन हो गया, वह 63 वर्ष के थे| नोबेल की वसीयत के निष्पादकों रागनार सोलमन आंड रुडोल्फ लिल्लजेक़ुस्ट (Ragnar Sohlman and Rudolf Lilljequist) ने नोबेल फाउंडेशन का गठन नोबेल पुरस्कारों के भाग्य और इनके भविष्य के लिए किया|

भौतिकी, रसायन विज्ञान, शरीर विज्ञान या चिकित्सा, साहित्य, और शांति में पुरस्कार पहली बार 1901 में दिए गए|  आर्थिक विज्ञान में संबंधित नोबेल मेमोरियल पुरस्कार 1968 में स्थापित किया गया था|

शांति का नोबेल पुरस्कार नार्वे की राजधानी ओस्लो में दिया जाता है जबकि अन्य सभी नोबेल पुरस्कार स्वीडन की राजधानी स्टाकहोम में दिए जाते हैं|

रॉयल स्वीडिश अकॅडमी ऑफ साइन्सस (The Royal Swedish Academy of Sciences) भौतिकी में नोबेल पुरस्कार, रसायन विज्ञान में नोबेल पुरस्कार, और आर्थिक विज्ञान में नोबेल मेमोरियल पुरस्कार से सम्मानित करती है|

कारोलिंस्का संस्थान (Karolinska Institute) की नोबेल असेंबली फिजियोलॉजी या चिकित्सा के नोबेल पुरस्कार प्रदान करती है|

स्वीडिश अकादमी साहित्य में नोबेल पुरस्कार के लिए अनुदान प्रदान करती है|

नोबेल शांति पुरस्कार नहीं एक स्वीडिश संगठन द्वारा लेकिन नार्वे की नोबेल समिति द्वारा सम्मानित किया जाता है|

नोबेल पुरस्कार प्रतिवर्ष दिए जाते हैं और प्रत्येक विजेता को एक स्वर्ण पदक, एक डिप्लोमा और धन की वह राशि जिस पर नोबेल फाउंडेशन फैसला लेती है प्रदान की जाती है|

नोबेल पुरस्कार विजेताओं को 8 मिलियन स्वीडिश क्रोना या 6 करोड़ 77 लाख की राशि प्रदान की जाती है| एक से अधिक विजेता होने पर यह राशि बराबर बाँट दी जाती है|

यदि किसी व्यक्ति को पुरस्कार देने की घोषणा हो चुकी है और पुरस्कार प्राप्त करने से पहले उसकी मृत्यु हो जाती है तो भी यह प्य्रास्कर उसे दिया जायेगा| 20वीं शताब्दी के बाद इस पुरस्कार को पाने वालों की संख्या में काफी इजाफा हुआ है परंतु कोई भी एक पुरस्कार तीन से ज्यादा व्यक्तियों को नहीं दिए जायेंगे|

1901 और 2013 के बीच, नोबेल पुरस्कार और आर्थिक विज्ञान में पुरस्कार 561 बार सम्मानित किया गया है|

नोबेल पुरस्कार पुरस्कारों की संख्या पुरस्कार विजेताओं की संख्या एक विजेता को सम्मानित किया दो विजेताओं द्वारा साझा तीन विजेताओं द्वारा साझा
भौतिकी 107 196 47 31 29
रसायन विज्ञान 105 166 68 22 20
चिकित्सा 104 204 38 31 35
साहित्य 106 110 102 4 -
शांति 94 101+25 64 28 2
आर्थिक विज्ञान 45 74 22 16 7
कुल 561 876 336 132 93

1901 से 2013 अब तक 851 व्यक्तियों और 25 संगठनों को नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया जा चुका है| जिसमे से 74 पुरस्कार आर्थिक विज्ञानं में दिए गए हैं| बहुत ही कम लोगों को 2 बार नोबेल पुरस्कार जितने का सौभाग्य प्राप्त हुआ है| इसका अर्थ यह है की अब तक 847 व्यक्तियों और 22 अद्वितीय संगठनों को ही यह पुरस्कार मिला है|

1901 में नोबेल पुरस्कारों की शुरुआत के बाद कई बार ऐसा भी हुआ है जब नोबेल पुरस्कार किसी को भी नहीं दिया गया| इस प्रकार कुल 50 पुरस्कार नहीं दिए गए प्रमुख रूप से प्रथम विश्व युद्ध (1914-1918) के बीच और द्वितीय विश्व युद्ध (1939-1945) के बीच| नोबेल समिति के अनुसार अगर किसी वर्ष किसी भी कार्य को इं पुरस्कारों के योग्य नहीं समझा जाता है तो यह पुरस्कार नहीं दिए जायेंगे और पुरस्कारों की राशि को नोबेल समिति की जमा सुरक्षित धनराशी में जोड़ दिया जायेगा|

नोबेल पुरस्कार किन वर्षों में पुरस्कार नहीं दिए गए
भौतिकी 1916, 1931, 1934, 1940, 1941, 1942
रसायन विज्ञान 1916, 1917, 1919, 1924, 1933, 1940, 1941, 1942
चिकित्सा 1915, 1916, 1917, 1918, 1921, 1925, 1940, 1941, 1942
साहित्य 1914, 1918, 1935, 1940, 1941, 1942, 1943
शांति 1914, 1915, 1916, 1918, 1923, 1924, 1928, 1932, 1939, 1940, 1941, 1942, 1943, 1948, 1955, 1956, 1966, 1967, 1972
आर्थिक विज्ञान -----------------------------------------------------------------------------------------

पुरस्कार विजेताओं में सबसे सामान्य क्षेत्र भौतिकी विज्ञानं में कण भौतिकी (Particle Physics) , रसायन विज्ञान  में जैव रसायन (biochemistry) आर्थिक विज्ञान में विजेताओं के लिए यह मैक्रो-इकोनॉमिक्स (Macroeconomics) है|

17 वर्ष की मलाला यूसुफज़ई अब तक की सबसे कम उम्र की नोबेल पुरस्कार विजेता हैं| इससे पहले यह रिकॉर्ड आस्ट्रेलिया में जन्मे, बाद में ब्रिटिश भौतिक विज्ञानी विलियम लॉरेन्स ब्रॅग (William Lawrence Bragg) नाम था, जिन्होने 1915 में 25 वर्ष की उम्र में यह पुरस्कार जीता था|

सबसे अधिक 90 वर्ष की उम्र में यह पुरस्कार रूस में जन्मे बाद में अमरीकी अर्थशास्त्री लीयनिड हुरविक्ज़ (Leonid Hurwicz) को उनके तंत्र डिजाइन सिद्धांत (mechanism design theory) के लिए दिया गया था|

अब तक सबसे ज्यादा नोबेल पुरस्कार प्राप्त करने वाले विजेता अमेरिका से हैं| अमेरिका के कुल 256 व्यक्तियों को यह पुरस्कार मिल चुका है|

देश पुरस्कार विजेताओं की संख्या 
अमेरिका 256
यूनाइटेड किंगडम 93
जर्मनी 80
फ़्रांस 52
स्वीडन 28
रूस 27
इटली 19
आस्ट्रिया 17
जापान 21
चीन 11
भारत 8
ऑस्ट्रेलिया 10
दक्षिण अफ्रीका 9
स्पेन 7
पोलैंड 26
कनाडा 17
चेक गणराज्य 6

इसके आलावा युक्रेन, रोमानिया, बेलारूस, आयरलैंडम, अर्जेंटीना को 4-4, डेनमार्क और नार्वे के 12-12, हंगरी के 9, मिस्र के 6, न्यूजीलैंड, मेक्सिको, लिथुआनिया और पाकिस्तान के 3-3, तुर्की, लाइबेरिया, अल्जीरिया, पुर्तगाल, ईरान, बोस्निया-हेर्जेगोविना, कोरिया गणराज्य और चिली के 2-2 विजेताओं को यह पुरस्कार मिल चुका है|

इसके अलावा ब्राज़ील, पेरू, वेनेज़ुएला, कोलंबिया, कोस्टारिका, ग्वाटेमाला, जिम्बाब्वे, मडगास्कर, नाइजीरिया, घाना, केन्या, यमन, ग्रीस, बुल्गारिया, स्लोवकिया, लाटविया, क्रोएशिया, स्लोवेनिया, स्लोवाकिया, मसिडोनिया, आइसलैंड, अज़रबैजान, म्यांमार, बांग्लादेश, इंडोनेशिया, ताईवान, वियतनाम अदि देशों के 1-1 विजेताओं को यह पुरस्कार मिल चुका है|

47 महिलाओं को अब तक नोबेल पुरस्कार मिल चुके हैं|

ज्यां पॉल सार्त्र (Jean-Paul Sartre), जो एक दर्शन शास्त्री थे उन्हें  साहित्य में 1964 के नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया परंतु उन्होंने पुरस्कार लेने  से इनकार कर दिया, क्योंकि उन्होंने लगातार किसी भी तरह सम्मान लेने से इनकार कर दिया था|

ले डक तो (Le Duc Tho) को अमेरिकी विदेश मंत्री हेनरी किसिंजर (Henry Kissinger) के साथ संयुक्त रूप से 1973 के नोबेल शांति पुरस्कार से सम्मानित किया गया था, परंतु उन्होंने भी यह पुरस्कार लेने से मना कर दिया था| ले डक तो एक वियतनामी क्रांतिकारी, जनरल, राजनयिक, और राजनीतिज्ञ थे| ले डक तो ने वियतनाम में स्थिति का हवाला देते हुए कहा कि वह  नोबेल शांति पुरस्कार स्वीकार करने की स्थिति में नहीं हैं|

4 नोबेल पुरस्कार विजेताओं के सामने ऐसी स्थिति भी ई जब उनके देश ने उन पर दबाव डाला की वह नोबेल पुरस्कार लेने से इन्कार कर दे, इनमे से तीन जर्मनी के रिचर्ड कून, एडॉल्फ बुटेनन्दट और गेरहार्ड दोमगक ( Richard Kuhn, Adolf Butenandt and Gerhard Domagk) जिन पर हिटलर ने पुरस्कार न लेने के लिए दबाव डाला था| बाद के वर्षो में इन लोगों ने यह पुरस्कार लिया परंतु उन्हें पुरस्कार की राशि न मिल सकी| रुसी उपन्यासकार बोरिस पास्टर्नॅक (Boris Pasternak) जिन्हें 1958 का साहित्य का नोबेल मिला था, पर भी रूस सरकार ने पुरस्कार न लेने का दबाव बनाया|

तीन नोबेल शांति पुरस्कार विजेता जर्मनी के कार्ल वॉन ओस्सइएतज़की (Carl von Ossietzky)1935 में, बर्मा की ऑंग सन श्यूयू की (Aung San Suu Kyi) 1991 में और चीन के लियू जिओबो (Liu Xiaobo) 2010 में| पुरस्कारों की घोषणा के समय ये सभी जेल में थे|

रेड क्रॉस की अंतर्राष्ट्रीय (International Committee of the Red Cross) समिति को उसके कार्यों के लिए 3 बार 1917, 1944 और 1963 में नोबेल पुरस्कारों के लिए सम्मानित किया जा चुका है, इसके अलावा, ICRC के संस्थापक हेनरी दुनांत (Henry Dunant) को 1901 में पहले नोबेल शांति पुरस्कार से सम्मानित किया गया था|

लिनुस पॉलिंग (Linus Pauling) अकेले ऐसे व्यक्ति हैं जिन्होंने अकेले 2 बार नोबेल पुरस्कार 1954 में रसायन शास्त्र और 1962 में शांति का नोबेल पुरस्कार जीता है|

इनके आलावा 2 बार नोबेल पुरस्कार जीतने वाले विजेता जे. बर्दीन (J. Bardeen) ने 1956 और 1972 में दो बार भौतिक विज्ञान के लिए नोबेल पुरस्कार, एम. क्युरी (M. Curie) ने 1903 में भौतिक विज्ञान और 1911 में रसायन विज्ञान के लिए, एफ सेंगर (F. Sanger) ने रसायन विज्ञानं के लिए 1958 और 1980 में और शरणार्थियों के लिए संयुक्त राष्ट्र के उच्चायुक्त (United Nations High Commissioner for Refugees-UNHCR) ने अपने कार्यों के लिए 1954 और 1981 का नोबेल शांति पुरस्कार जीता है|

1974 में नोबेल पुरस्कार समिति ने यह निर्णय लिया की मरणोपरांत नोबेल पुरस्कार नहीं दिए जायेंगे, परंतु नोबेल पुरस्कारों की घोषणा के बाद अगर किसी विजेता की मृत्यु हो जाती है तो यह पुरस्कार दिए जायेंगे|

1974 से पहले, नोबेल पुरस्कार केवल दो बार मरणोपरांत सम्मानित किया गया है: डेग हैमरशोल्ड (Dag Hammarskjöld)-नोबेल शांति पुरस्कार 1961), और एरिक एक्सल कर्लफेलडट (Erik Axel Karlfeldt) -साहित्य 1931 में नोबेल पुरस्कार|

सन 2011 में चिकित्सा के एक नोबेल पुरस्कार विजेता रॅल्फ स्टेयंमान (Ralph Steinman) की मृत्यु 3 दिन पहले हो चुकी है और कारोलिंस्का संस्थान की नोबेल असेंबली उनकी मृत्यु की जानकारी के आभाव में उनके नाम की घोषणा कर दी और बाद में नोबेल समिति ने यह फैसला लिया की उन्हें यह सम्मान दिया जायेगा|

नोबेल पुरस्कार से सम्मानित कुछ पारिवारिक विजेता भी रहे हैं| जिनके नाम इस प्रकार हैं-

विवाहित जोड़े
मेरी क्युरी (Marie Curie) और पिएरे क्युरी (Pierre Curie)

आयरीन जोलिएट क्युरी (Irène Joliot-Curie), फ्रेडरिक जोलिएट (Frédéric Joliot)                                  

गेर्टी कोरी (Gerty Cori), कार्ल कोरी (Carl Cori)                                                                      

अल्वा मिरडल (Alva Myrdal), गुन्नार मिरडल (Gunnar Myrdal)                                                      

में-ब्रिट मोजर (May-Britt Moser), एडवर्ड आई. मोजर (Edvard I. Moser)

माँ और पुत्री
मेरी क्युरी (Marie Curie) और आयरीन जोलिएट क्युरी (Irène Joliot-Curie)
पिता - पुत्री
पिएरे क्युरी (Pierre Curie) और आयरीन जोलिएट क्युरी (Irène Joliot-Curie)
पिता - पुत्र
विलियम ब्रैग (William Bragg) और लारेन्स ब्रैग (Lawrence Bragg)

नील्स बोर (Niels Bohr) और आगे एन. बोर (Aage N. Bohr)

हांस वॉन युलर चेलपिन (Hans von Euler-Chelpin), उल्फ़ वॉन युलर (Ulf von Euler)                                

आर्थर कार्नबर्ग (Arthur Kornberg), रॉजर डी. कार्नबर्ग (Roger D. Kornberg)                                      

माने सिएगबन (Manne Siegbahn), काई एम. सिएगबन (Kai M. Siegbahn)                                          

जे.जे. थोमसन (J. J. Thomson) और जार्ज पैगे थोमसन(George Paget Thomson)

भाई
जान टिएन्बर्ग (Jan Tinbergen) और निकोलस टिएन्बर्ग (Nikolaas Tinbergen)

प्रति वर्ष 10 दिसंबर नोबेल पुरस्कार अवार्ड समारोह में नोबेल पुरस्कार विजेताओं तीन चीजें प्राप्त होती है, एक नोबेल डिप्लोमा, एक नोबेल पदक और नोबेल पुरस्कार राशि की पुष्टि करने वाला दस्तावेज़| प्रत्येक नोबेल डिप्लोमा अग्रणी स्वीडिश और नार्वे कलाकारों और पच्चिकारों द्वारा बनाई गई कला का एक अनूठा काम होता है| नोबेल पदक सावधानी से और परिशुद्धता के साथ हाथ से बनाया जाता है, जो 18 कैरेट का ग्रीन गोल्ड होता है और इस पर 24 कैरेट सोने की प्लेटिंग होती है|

भौतिकी, रसायन विज्ञान, शरीर विज्ञान या चिकित्सा और साहित्य में नोबेल पदक एक समान होते हैं: इस पर अल्फ्रेड नोबेल की छवि, उनके जन्म और मृत्यु (1833-1896) का वर्ष लिखा होता है|

नोबेल शांति पुरस्कार पदक और आर्थिक विज्ञान में पुरस्कार के लिए पदक  पर अल्फ्रेड नोबेल का चित्र ही बना होता है लेकिन एक अलग डिजाइन के साथ| पिछले हिस्से पर बनी छवि पुरस्कार देने संस्था के अनुसार बदलती रहती है|

One thought on “नोबेल पुरस्कारों के बारे में कुछ दिलचस्प बातें Some interesting things about the Nobel Prizes

  • August 16, 2016 at 8:59 am
    Permalink

    Can registration for the Nobel prize after death. After so many years ?

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Mobile application powered by Make me Droid, the online Android/IOS app builder.