जन्तु-जगत् के वर्गीकरण का संक्षिप्त इतिहास Brief History of the Classification of Animal Kingdom

पहले लोग जन्तुओं को अपने हिसाब से वर्गों में बाँटते थे, जैसे- घातक-अघातक, उड़ने वाले, न उड़ने वाले, भक्ष्य (Edible) अभक्ष्य, लाभकारी या हानिकारक जन्तु आदि। सुप्रसिद्ध ग्रीक दार्शनिक अरस्तू (Aristotle, 384 ई. पूर्व) ने, जिन्हें प्राणिविज्ञान का जनक (Father of Zoology) कहते हैं, सबसे पहले उस समय ज्ञात जंतुओं का मौलिक अर्थात प्राकृतिक समानताओं तथा विषमताओं के आधार पर वर्गीकरण किया। अरस्तू के लगभग 2000 वर्ष बाद, सत्रहवीं सदी से जॉन रे (1693) ने पहले-पहल प्राणि जाति (Species) की परिभाषा आधार पर, वर्गीकरण किया।

कैरोलस लिनियस (1735) ने अपनी पुस्तक सिस्टेमा नेचुरी (Systema Naturae) में 4236 ज्ञात जातियों का वर्गीकरण किया। पुस्तक के दसवें संस्करण (1758) में वर्गीकरण की जो प्रणाली अपनाई गई उसी से आधुनिक वर्गीकरण प्रणाली की नींव पड़ी। उन्होंने ही प्राणी-जातियों के नामकरण हेतु एक द्विनाम पद्धति (Binomial nomenclature) का विकास किया। उन्हें इसीलिए आधुनिक वर्गीकरण का पिता (Father of Modern Taxonomy) कहते हैं।

19वीं सदी में अनेक वैज्ञानिकों ने वर्गीकरण-विज्ञान में महत्वपूर्ण योगदान दिया। सन् 1901 में, अन्तर्राष्ट्रीय प्राणि-जातियों के नामकरण हेतु, लिनियस की द्विनाम-पद्धति के ही अनुसार, कुछ अन्तर्राष्ट्रीय नियमों को मान्यता दी गयी, ताकि प्रत्येक जाति का विश्व भर में एक ही वैज्ञानिक नाम हो और कोई एक नाम कई जातियों के लिए न निर्धारित कर लिया जाये। ये नियम सन् 1961 में संशोधित भी हुए, इनके अनुसार, प्रत्येक जाति के नाम में वंश (Genus) का नाम बड़े अक्षर (Capital letter) से तथा जाति का छोटे (Small letter) से, परन्तु पूरा नाम तिरछे अक्षरों (Italics) में लिखा जाना चाहिये। यदि एक जाति के लिए संसार के विभिन्न वैज्ञानिक विभिन्न नाम रख देते हैं तो सबसे पहले प्रयुक्त नाम को ही मान्यता दी जाती है।

वर्गिकी के महत्वपूर्ण वैज्ञानिक
अरस्तू (Aristotle, 384-322 ई. पू.)प्राणि-जगत् के जनक (Father of Zoology)
जॉन्स्टन (Johnston, 1650)नाम मोलस्का (Mollusca) के स्थापक
ल्युवेनहॉक (Leeuwenhoek, 1673)प्रोटोजोआ का सर्वप्रथम अध्ययन किया
जॉन रे (John Ray, 1686)सबसे पहले जाति (Species) की परिभाषा दी
जैकब क्लीन (Jacob Klein, 1738)नाम ईकाइनोडर्मेटा (Echinodermata) के संस्थापक
कैरोलस लिनियस (Carolus Linnaeus, 1758)वर्गिकी के पिता (Father of Taxonomy); नाम इन्सेक्टा (Insecta) और अन्य जीव-जातियों के नामकरण की द्विनाम पद्धति (Binomial Nomenclature) के स्थापक।
लैमार्क (Lamarck, 1801)नाम एनालिड़ा (Annelida) के प्रेषक
गोल्डफस (Goldfuss, 1817)नाम प्रोटोजोआ (Protozoa) के प्रेषक
रोबर्ट ग्रांट (Robert Grant, 1825)पोरीफेरा (Porifera) के प्रेषक
वान सीबोल्ड (Von Siebold, 1845)नाम आर्थोपोडा (Arthropoda) के प्रेषक
गेगेनबॉर (Gegenbaur, 1859)नाम प्लेटीहेल्मिन्थीज (Platyhelminthes) के प्रेषक
हेकल (Haeckel, 1862-1898)नाम प्रोटिस्टा (Protista) एवं मोनेरा (Monera) के प्रेषक


परिमाण की विशेषता वाले जन्तु
सबसे छोटा जन्तुप्रोटोजोआ संघ के जन्तु
सबसे बड़ा जन्तु नीलीव्हेल बैलीनोप्टेरा मस्कुलस (Balaenoptera musculus), जो एक समुद्री स्तनी (Mammalian) है। इसकी लम्बाई लगभग 35 मीटर तक तथा भार लगभग 150 टन तक होता है।
सबसे बड़ा स्थलीय जन्तुहाथी
सबसे बड़ा अकशेरुकीय (Invertebrate) जन्तुदैत्याकार स्क्विड (Giant squid) है जो आर्टिकट्यूथिस श्रेणी (Genus Architeuthis) का सिफैलोपोड मौलस्क है। इसके शरीर का व्यास लगभग 6 मीटर, लम्बाई लगभग 16 मीटर और भार कई टन तक होता है।
सबसे बड़ी वास्तविक मछली (Fish)र्हाइनियोडॉन टाइपस (Rhineodon typus) है, जिसे व्हेल शार्क मछली (Whale Shark) कहते हैं। इसकी लम्बाई 13-14 मीटर तक होती है।
सबसे छोटी वास्तविक मछली (Fish)फिलीपीन की गोबी फिश (Goby fish)- पैन्डैका (Pandaka) है। इसकी लम्बाई लगभग 10 मिमी तक होती है।
सबसे बड़ा पक्षीफ्रीका तथा अरब का शुतुरमुर्ग (Ostrich-Struthio), इसकी ऊँचाई लगभग 2.10 मीटर तक तथा भार 150 किलो तक होता है।
सबसे छोटा पक्षीक्यूबा का हेलेना का मर्मर पक्षी (Helena's hunting bird) है। इसकी लम्बाई लगभग 5.7 सेमी होती है।
सबसे छोटा स्तनीकुछ छछूंदर (Shrews) है। इसकी लम्बाई लगभग 5 सेमी होती है।


ये मछलियाँ (Fishes) नहीं हैं
क्रेफिश (Cray fish)क्रस्टेशियन आर्थ्रोपोडा संघ का जन्तु है- कैम्बेरस (Cambarus) एवं एस्टेकस (Astacus)।
कटलफिश (Cuttle fish)सिफलोपोड मोलस्क संघ का जन्तु है- सीपिया (Sepia)।
डेविलफिश (Devil fish)सिफैलोपोड मोलस्क का जन्तु है- ऑक्टोपस (Octopus)।
जेलीफिश (Jelly fish)स्काइफोजोअन सिलेन्ट्रेट- औरेलिया (Aurelia)।
सिल्वरफिश (Silver fish)कीट (Insect) लेपिस्मा (Lepisma)।
स्टारफिश (Star fish)इकाइनोडर्मेटा संघ की जन्तु ऐस्टिरियस (Asterias)।
व्हेल फिश (Whale fish)समुद्री स्तनी है।


कुछ विचित्र सर्वविदित समुद्री जन्तु
समुद्री एनीमोन (Sea anemone)यह एन्थोजोआ वर्ग तथा सिलेन्ट्रेटा संघ का जन्तु है। कुछ समुद्री ऐनीमोन से मिलती-जुलती जातियों जैसे मैड्रीपोरा, फंजिया, टयूबीपोरा आदि से एक कैल्सियमयुक्त कंकाल बनता है जिसे समुद्री झाग या कोरल (Coral) कहते हैं।
समुद्री गाय (Sea Cow)यह साइरेनिया गण तथा स्तनी संघ का समुद्री जन्तु है। ये मछली जैसे शाकाहारी स्तनी हैं।
समुद्री खीरा (Sea Cucumber)यह होलोथूरॉइडिया वर्ग एवं इकाइनोडर्मेटा संघ का खीरे जैसे आकार का जन्तु है।
समुद्री पंखा (Sea fan)यह ऐन्थोजोआ वर्ग तथा सिलेन्ट्रेटा संघ का पंखे जैसे आकार का जन्तु है।
समुद्री खरहा (Sea hare)यह गैस्ट्रोपोड मोलस्क है जी खरहे की तरह दिखता है। उदाहरण-ऐप्लीसिया (Aplysia)।
समुद्री घोड़ा (Sea horse)यह मछली वर्ग का समुद्री जंतु है जिसका सिर घोड़े के सिर जैसा होता है। उदाहरण- हिप्पोकैम्पस (Hippocampus)।
समुद्री कुमुदनी (Sea lily)यह क्रिनॉइडिया एवं इकाइनोडर्मेटा संघ का समुद्री जन्तु है। उदाहरण-ऐण्टीडॉन (Antedon)।
समुद्री शेर (Sea Lion)ये कई प्रकार के समुद्री शक्तिशाली स्तनी हैं; जो मांसाहारी होते हैं।
समुद्री चूहा (Sea Mouse)यह पॉलीकोट वर्ग तथा एनीलिडा संघ का जन्तु है। उदाहरण- ऐफ्रोडाइट (Aphrodite)।
समुद्री कलम (Sea pen)यह ऐन्थोजोआ वर्ग तथा सिलेन्ट्रेटा संघ का पेन जैसे आकार का जन्तु है।
समुद्री साही (Sea Urchin)यह इकाइनॉइडिया वर्ग एवं इकाइनोडर्मेटा संघ का गोल एवं चपटा शरीरं वाला समुद्री जन्तु है, जिसकी सतह पर हिलने-डुलने वाले काँटे होते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Mobile application powered by Make me Droid, the online Android/IOS app builder.