सिलिकन Silicon

सिलिकन प्रकृति में रेत (sand) और पत्थर के रूप में बहुतायत से पाया जाता है। यह आवर्त सारणी के वर्ग 14 का सदस्य है। इसकी परमाणु संख्या 14 तथा परमाणु भार 28.1 होती है। इसका इलेक्ट्रॉनिक विन्यास- 1s2,2s22p6, 3s23p2 होता है। यह अपरूपता (Allotropy) ast घटना प्रदर्शित करता है। यह एक अधातु तत्व है। इसके हाइड्राइड सिलोन (silone) कहलाते हैं। पृथ्वी की सतह पर ऑक्सीजन के अतिरिक्त दूसरा बहुतायत में पाया जाने वाला तत्व सिलिकन है। पृथ्वी की परत में इसकी प्रतिशत मात्रा 26% रहती है।

सिलिकन का उपयोग: (i) शुद्ध सिलिकन का उपयोग अतिचालकता (Super Conductivity) में होता है। (ii) कम्प्यूटर चिप्स के निर्माण में (iii) अर्धचालक उपकरणों के निर्माण में (iv) कार्बोरेण्डम के निर्माण में (v) मिश्रधातुओं के निर्माण में (vi) इस्पात या लोहे को अम्ल प्रतिरोधी (Acid Resistant) बनाने में (vii) सिलिकोन नामक बहुलक के निर्माण में (viii) सिलिका जेल (Silica gel) के रूप में इसका उपयोग शुष्ककारक (Drying Agent) à रूप में होता है। (ix) सिलिका वाटिका (Sillica Garden) के निर्माण में।

सिलिकन के यौगिक

  1. सिलिकन कार्बाइड (Silicon Carbide): इसे कार्बोरेण्डम (Carborendum) कहा जाता है। इसे कृत्रिम हीरा भी कहते हैं।
  2. सिलिका (sillica): सिलिका को बालू (sand) भी कहा जाता है। इसका रासायनिक सूत्र SiO2 होता है। यह ठोस अवस्था में पाया जाता है। इसका उपयोग कांच निर्माण तथा सीमेण्ट के उत्पादन में किया जाता है। क्वार्टज (Quartz) SiO2, का क्रिस्टलीय रूप है। यह प्रकृति में सबसे अधिक मात्रा में पाया जाने वाला खनिज है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *