भारत में नौ परिवहन Shipping In India

⇨ भारतीय जहाजरानी निगम लिमिटेड की स्थापना 2 अक्टूबर, 1961 को हुई। 18 सितम्बर, 1992 को इसे प्राइवेट लिमिटेड से पब्लिक लिमिटेड कर दिया गया। इसे भारत सरकार ने वर्ष 2000 में मिनी रत्न का दर्जा दिया।

⇨ कांडला ज्वारीय बंदरगाह है। मुंबई भारत का सबसे बड़ा बंदरगाह है।

⇨ मर्मगाव और कोच्चि प्राकृतिक बंदरगाह है।

⇨ एन्नौर निजी क्षेत्र में देश का प्रथम सबसे बड़ा कम्प्यूटरीकृत बंदरगाह है।

⇨ गांधीनगर (गुजरात) देश का पहला रसायन बंदरगाह है।

विश्व की प्रमुख नौगम्य नहरें
स्वेज नहरभूमध्य सागर व् लाल सागर
पनामा नहरअटलांटिक महासागर व् प्रशांत महासागर
किल नहरउत्तर सागर-बाल्टिक सागर
सेतुसमुद्रमभारत के दक्षिणी तट को पूर्वी तट से
भारत के प्रमुख बंदरगाहों की विशेषताएं
बंदरगाहविशेषताएंमाल-यातायात की प्रमुखता
कांडला (गुजरात)ज्वारीय बंदरगाहसभी प्रकार का माल
मुंबई (महाराष्ट्र)भारत का सबसे बड़ा बंदरगाहपेट्रोलियम उत्पाद, शुष्क माल, कारें
जवाहर लाल नेहरुआधुनिक सुख सुविधा युक्तशुष्क माल
न्हावा शेवा (महाराष्ट्र)मेकेनाइज्डसैटेलाइट बंदरगाह
मझगांव (मर्मगाव-गोवा)यह प्राकृतिक पोताश्रय हैसभी प्रकार का तरल एवं शुष्क माल, लौह अयस्क का निर्यात
नवीं (मंगलौर-कर्नाटक)-लौह अयस्क का निर्यात
कोच्चि (केरल)प्राकृतिकबंदरगाह सभी प्रकार के उत्पाद
तूतीकोरिन (तमिलनाडु)-कोयला
चेन्नई (तमिलनाडु)पूर्वी तट का सबसे पुराना बंदरगाहपेट्रोलियम उत्पाद, लौह अयस्क और कारें
एन्नौर (तमिलनाडु)देश का प्रथम निगमित एवं नया सैटेलाइट बंदरगाहसभी प्रकार का तरल एवं शुष्क बंदरगाह
विशाखापत्तनम (आंध्रप्रदेश)देश का सबसे गहरा बंदरगाहलौह अयस्क एवं पेट्रोलियम उत्पाद का निर्यात
पारादीप (उड़ीसा)यह कृत्रिम बंदरगाह हैलौह अयस्क एवं कोयला तथा शुष्क माल
कोयला-हल्दिया (प.बंगाल)-नदीय बंदरगाह, कोयला, पेट्रोलियम उत्पाद एवं अन्य उत्पाद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *