संघ आर्थोपोडा Phylum Arthropoda

आर्थोपोडा शब्द का प्रयोग सर्वप्रथम वान सीबोल्ड (van seibold) ने 1845 ई. में किया जिसका अर्थ होता है संयुक्त उपांग (Arthron =Joint; Podos = Foot) यह जन्तु जगत का सबसे बड़ा संघ है। इस संघ में लगभग 10 लाख जन्तु हैं जो पर्वत की ऊँचाइयों से लेकर समुद्र में 8 km की गहराई तक पाये जाते हैं। इस संघ के जन्तुओं के प्रमुख लक्षण निम्नलिखित हैं-

  • इस संघ के जन्तु, जल, थल एवं वायु तीनों जगहों पर पाये जाते हैं।
  • इनका शरीर द्विपार्श्विक सममित (Bilaterally symmetrical) होता है।
  • इनका शरीर खण्डयुक्त (Segmented) तथा त्रिस्तरीय (Triploblastic) होता है।
  • इनका शरीर सिर (Head), वक्ष (Thorax) और उदर (Abdomen) में विभाजित होता है। कभी-कभी सिर और वक्ष जुड़कर शिरोवक्ष (Cephalothorax) का निर्माण करते हैं।
  • इनका बाह्यकंकाल एक मोटी काइटिन की बनी उच्चर्म (Cuticle) का बना होता है। खण्डों में प्रायः संघित उपांगों (Jointed appendages) के जोड़े लगे रहते हैं। इसलिए इसे आथ्रोपोडा (Arthropoda , arthros = Joint , Podos = Foot) कहा जाता है।
  • इनमें देहगुहा एक रुधिर गुहा (Haemocoel) होती है जो रक्तवाहिनियों के मिलने से बनी है।
  • इनमें आहारनाल पूर्ण होती है। मुख के चारों ओर मुखांग (Mouth parts) होते हैं जो जन्तु के आवश्यकतानुसार छेदने, चूसने या चबाने के लिए अनुकूलित होते हैं।
  • इनमें पेशीतंत्र (Muscular system) विकसित होता है।
  • इनमें खुला रुधिर तंत्र (Open blood Vascular System) होता है।
  • इनका हृदय लम्बा तथा संकुचनशील रहता है।
  • इनमें श्वसन क्रिया शरीर की सतह द्वारा जलीय जीवों में क्लोमों (Gills) द्वारा और स्थलचर प्राणियों में शवासनलियों (Tracheae) या पुस्तक फुप्फुसों (Book lungs) द्वारा होती है।
  • इनमें उत्सर्जन क्रिया मैलपीगियन नलिकाओं (Malpighian tubules) द्वारा या हरित ग्रन्थियों (Green glands) द्वारा होती है।
  • इनमें तंत्रिका तंत्र पूर्ण विकसित होता है।
  • ये जन्तु सामान्यतः एकलिंगी (Unisexual) होते हैं। इनके जीवन चक्र में लार्वा अवस्था पायी जाती है जो रूपान्तरित होकर वयस्क हो जाता है।
  • इनमें निषेचन बाह्य एवं आन्तरिक दोनों प्रकार के होते हैं।

उदाहरण - ट्राइआर्थस (Triarthrus), लिम्यूलस (Limulus), बिच्छू (Scorpion), मकड़ियाँ (Spiders), किलनी (Ioxodes), पिक्नोगोनम (Pycnogonum), निम्फॉन (Nymphon), झींगा (Palaemon), केंकड़ा (Crab), क्रेफिश (Cambarus), तिलचट्टा (Cockroach), मक्खी (Musca), मच्छर (Culex and Anopheles), मधुमक्खी (Apis), रेशम का कीड़ा (Silk worm), कनखजूरा (Scolopendra) आदि।

महत्वपूर्ण तथ्य:

  • झींगा (Prawn) एक जलवासी जन्तु है जो खाने में इस्तेमाल किया जाता है।
  • केंकड़ा (Crab) जल में रहनेवाला एक जन्तु है जिसका वैज्ञानिक नाम कार्सिनस (Carcinus) है। यह भी मनुष्यों द्वारा भोजन के रूप में इस्तेमाल किया जाता है।
  • टिड्डा (Grass hopper) एक कीट है जो विश्व के प्रायः सभी देशों में पाया जाता है। यह फसलनाशक जीव है।
  • बिच्छू एक साधारण स्थलचर जन्तु है जिसका वैज्ञानिक नाम पैलामिनियस (Palamneaus) है। इसमें विष ग्रंथि होती है।
  • गोजर (scolopendra) शतपादवाली एवं स्थलवासी जन्तु है जिसका वैज्ञानिक नाम स्कोलोपेन्ड्रा है।
  • पेरिपेटस को ऐनेलिडा एवं आश्रोपोडा संघ का योजक कड़ी (Connecting Link) कहा जाता है।
  • इस संघ का सबसे बड़ा वर्ग कीटवर्ग (Insecta) है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *