पूर्वी कैरेबियन राज्य संगठन Organisation of Eastern Caribbean States - OECS

यह संगठन पूर्वी कैरेबियन क्षेत्र के छोटे देशों के मध्य एकता और भाईचारा विकसित करने के लिये उन्हें एकजुट करता है।

मुख्यालय: कैस्ट्रीज (सेंट लुसिआ)।

सदस्यता: एंटीगुआ और बरबूदा, डोमिनिका, ग्रेनेडा, मौसेरात, सेंट किट्स और नेविस, सेंट लुसिआ, सेंट विंसेट और ग्रेनेडाइन्स।

सहायक सदस्य: एंग्युला और ब्रिटिश वर्जिन द्वीप समूह।

आधिकारिक भाषा; अंग्रेजी।

उद्भव एवं विकास

1970 और 1980 के दशकों में स्वतंत्र होने के पश्चात् कैरेबियन समुदाय के सात सबसे कम विकसित देशों (एंटीगुआ और बरबूदा, डोमिनिका, ग्रेनेडा, मौसेरात, सेंट किट्स और नेविस, सेंट लुसिआ, सेंट विंसेंट तथा ग्रेनेडाइन्स) ने आपसी संबंधों को मजबूत बनाने के लिये एक उप-क्षेत्रीय संगठन की आवश्यकता को महसूस किया। ये सात सदस्य वेस्ट इंडीज राज्य संघ, जिसका गठन ब्रिटिश कैरेबियन क्षेत्रों की अनेक सामूहिक आर्थिक, न्यायिक और राजनयिक जरूरतों को पूरा करने के उद्देश्य से वर्ष 1966 में हुआ था, के पूर्व सदस्य थे। जून 1968 में इन देशों ने अपना एक पृथक् सीमा शुल्क संघ-पूर्वी कैरेबियन साझा बाजार (ईसीसीएम), गठित किया। 1974 में कैरिफ्टा के उत्तराधिकारी संगठन कैरीकॉम में सम्मिलित हुये। कैरीकॉम के सात सबसे कम विकसित सदस्यों के मध्य आपसी संबंधों में मजबूती लाने के एक साधन के रूप में पूर्वी कैरेबियन राज्य संगठन (Organisation of Eastern Caribbean States–OECS) के गठन हेतु इन देशों ने जून 1981 में बास्तेरे (सेंट किट्स) में एक संधि पर हस्ताक्षर किए। यह निर्णय लिया गया कि संगठन का केन्द्रीय सचिवालय कैस्ट्रीज (जो वेस्ट इंडीज राज्य संघ का प्रशासनिक केन्द्र था) में अवस्थित होगा, जबकि आर्थिक मामलों के लिये सचिवालय सेंट जॉन्स (एंटीगुआ) जहां ईसीसीएम का सचिवालय था, में अवस्थित होगा।

उद्देश्य

सदस्यों के मध्य विदेश संबंधों में सहयोग बढ़ाना, आर्थिक व्यापार, वित्तीय नीतियों में सामंजस्य स्थापित करना तथा रक्षा एवं सुरक्षा व्यवस्थाओं में समन्वय स्थापित करना ताकि उप-क्षेत्रीय एकीकरण की जड़ और मजबूत हो, ओईसीएस के प्रमुख उद्देश्य हैं।

संरचना

ओईसीएस के संगठनात्मक ढांचे में सदस्य देशों के शासनाध्यक्षों का प्राधिकरण, विदेश मंत्री समिति, रक्षा एवं सुरक्षा समिति, आर्थिक मामलों की समेिति और सचिवालय तथा केन्द्रीय सचिवालय सम्मिलित हैं।

सदस्य देशों के शासनाध्यक्षों का प्राधिकरण, ओईसीएस का सर्वोच्च निर्णयकारी अंग है। संगठन की नीतियों के निर्धारण के उद्देश्य से इस प्राधिकरण की दो वर्षों में एक बैठक होती है। विदेश मंत्री समिति तथा रक्षा एवं सुरक्षा समिति सदस्यों के वैदेशिक संबंधों में समन्वय का पर्यवेक्षण करती है। ईसीसीएम के  संचालन का पर्यवेक्षण आर्थिक मामलों की समिति और सचिवालय के द्वारा होता है। केन्द्रीय सचिवालय के प्रमुख कार्य हैं-रिपोर्ट तैयार करना, संगठन के अन्य अंगों के कार्य में सहायता देना तथा उन्हें प्रशासनिक, तकनीकी और कानूनी सुविज्ञता प्रदान करना।

इन अंगों के अतिरिक्त, प्राकृतिक संसाधन और अपशिष्ट पदार्थों का प्रबंधन, शिक्षा, औषधि, व्यापार और कृषि विविधता, निवेश प्रोत्साहन, नागरिक उड्डयन तथा दूरसंचार के क्षेत्रों में कार्य करने वाली विशिष्ट संस्थाओं की भी स्थापना की गई है।

गतिविधियां

क्षेत्रीय एकीकरण स्थापित करने के लिये ओईसीएस अनेक प्रकार की गतिविधियों में व्यस्त रहता है। ईसीसीएम आर्थिक और व्यापार नीतियों में समन्वय स्थापित करके आर्थिक एकीकरण को प्रोत्साहित करता है। पूर्वी कैरेबियन मुद्रा प्राधिकरण में उन्नति लाने के लिए 1983 में पूर्वी कैरेबियन केन्द्रीय बैंक (ईसीसीबी) का गठन किया गया। 1989 में दो नये ओईसीएस निकाय गठित हुए-(i) ईईसी के सहयोग से पूर्वी कैरेबियन राज्य निर्यात विकास अभिकरण, तथा; (ii) संयुक्त राज्य अमेरिका के सहयोग से कृषि विविधता और समन्वक इकाई।

सदस्य देश एकल आर्थिक बाजार स्थापित करने और ओईसीएस के आन्तरिक व्यापार में सभी अवरोधों को समाप्त करने के लिये समर्पित हैं, लेकिन इस दिशा में कोई महत्वपूर्ण प्रगति नहीं हुई है। सदस्य देशों में राजनीतिक स्थिरता सुनिश्चित करने के उद्देश्य से 1983 में एक क्षेत्रीय सुरक्षा तंत्र का गठन किया गया। पवनाभिमुखी देशों (Windward Countries) (डोमिनिका, ग्रेनेडा, सेंट लुसिया और सेंट विंसेंट) के द्वारा क्षेत्रीय राष्ट्रवादिता से लड़ने तथा एकीकरण को प्रोत्साहित करने के लिये एक राजनीतिक संघ गठित करने की मांग हो रही है। हाल के वर्षों में संगठन ने अपना ध्यान गरीबी और अधोविकास (under-development) की समस्याओं पर केन्द्रित किया है।

13 अगस्त, 2008 को, त्रिनिडाड एवं टोबैगो, ग्रेनाडा, सेंट लुसिया एवं सेंट विंसेट ने कैरीकॉम के भीतर एक उप-क्षेत्रीय राजनीतिक संघ के अनुसरण की अपनी इच्छा की घोषणा की। वर्ष 2008 में ओईसीएस प्रमुखों को वेनेजुएला से संगठन में शामिल होने का निवेदन प्राप्त हुआ।

कैरेबियन न्यायालय की स्थापना 2003 में की गई, लेकिन सीसीजे के अपील के अंतिम न्यायालय बनने से पूर्व संवैधानिक परिवर्तन करने की आवश्यकता है।

1 जनवरी, 2008 से ओईसीएस के एक साझा पासपोर्ट की योजना बनाई गई लेकिन इसे प्रस्तुत करने में विलम्ब हो गया। जैसाकि कैरीकॉम पासपोर्ट जनवरी 2005 में पहले प्रस्तुत कर दिया गया था और तब ओईसीएस पासपोर्ट रोक दिया गया।

21 जून, 2006 को एक नवीन ओईसीएस आर्थिक संघ संधि को अंतिम रूप से प्रस्तुत किया गया। घोषणा के अनुसार, 1 जुलाई, 2007 तक आर्थिक संघ स्थापित किया जाना था लेकिन रिवाइज्ड ट्रीटी ऑफ बसाटेरे इस्टेब्लिशिंग द ऑर्गेनाइजेशन ऑफ ईस्टर्न कैरेबियन स्टेट्स इकोनॉमिक यूनियन पर 18 जून, 2010 तक हस्ताक्षर होने के बाद अंतिम तिथि जा चुकी थी जिसे 2011 किया गया। ओईसीएस अध्यक्षों ने निर्णय लिया कि ओईसीएस इकोनॉमिक यूनियन संधि रिवाइज्ड ट्रीटी ऑफ चगुआरमस के तहत् मान्य होनी चाहिए जैसाकि चगुआरमस की मूल संधि ने बासरेटे की संधि की मान्यता प्रदान की थी। अंततः 18-19 फरवरी, 2013 को इसे मान्यता प्रदान कर दी गई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Mobile application powered by Make me Droid, the online Android/IOS app builder.