भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन ने PSLV - C23 का सफलतापूर्वक प्रक्षेपण किया Isro's PSLV - C23 launch successful

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो ISRO) ने, 30 जून को सुबह 9 बजकर 52 मिनट पर श्रीहरिकोटा से अपना ध्रुवीय उपग्रह प्रक्षेपण यान पीएसएलवी-सी 23 सफलता पूर्वक प्रक्षेपित कर दिया| फ्रांस के पृथ्वी अवलोकन उपग्रह(French earth observation satellite) सहित और चार अन्य विदेशी उपग्रहों के साथ भारतीय रॉकेट PSLV C-23 को सोमवार श्रीहरिकोटा के रॉकेट पोर्ट से सफलतापूर्वक प्रक्षेपित किया गया|

पीएसएलवी अपनी 27वीं उड़ान में फ्रेंच अर्थ आब्‍जरवेशन उपग्रह स्‍पॉट-7 (French earth observation satellite- SPOT-7)  को 655 किलोमीटर ऊपर सूर्य तुल्‍यकालिक कक्षा (Sun Synchronous Orbit - SSO) में स्थापित करेगा| पीएसएलवी सतीश धवन अंतरिक्ष केन्‍द्र (Satish Dhawan Space Center-SDSC SHAR, Shriharikota) के उस प्‍लेटफॉर्म से छोड़ा जाएगा जहां से पहला उपग्रह छोड़ा गया था। ठोस स्ट्रॅप-ऑन मोटरों का इस्‍तेमाल किए बिना पीएसएलवी की यह 10वीं उड़ान होगी।

स्‍पॉट-7(SPOT-7 के साथ, 4 अन्य उपग्रह, डीएलआर(DLR), जर्मनी से एआईएसएटी(AISAT), यूटीआईएएस/एसएफएल(UTIS/SFL) कनाडा से एनएलएस 7.1(NLS 7.1) और एनएलएस 7.2(NLS 7.2) और एनटीयू(NTU), सिंगापुर से वीईएलओएक्‍स-1(VELOX-1) होंगे।

स्‍पॉट-7 फ्रेंच आप्टिकल अर्थ आब्‍जरवेशन उपग्रह है। (यह स्‍पॉट-6 से मिलता-जुलता है जिसे सितम्‍बर 2012 के दौरान पीएसएलवी-21 में छोड़ा गया था। सूर्य तुल्‍यकालिक कक्षा में अंत:क्षेपण के बाद, इसे स्‍पॉट-6 के सामने व्‍यास में रखा जाएगा और यह वर्तमान अर्थ आब्‍जरवेशन समूह का हिस्‍सा बन जाएगा। स्‍पॉट-7 उपग्रह का निर्माण एक प्रमुख यूरोपियन अंतरिक्ष टेक्‍नोलॉजी कंपनी, एयरबस डिफेंस एंड स्‍पेस ने किया है।

एआईएसएटी(AISAT) का मिशन उद्देश्‍य वैश्विक समुद्री यातायात निगरानी व्‍यवस्‍था करना है जिसमें एआईएस(AIS) सिगनलों का इस्‍तेमाल करते हुए उच्‍च ट्रैफिक भागों पर विशेष जोर दिया जाएगा। यह नैनो उपग्रह श्रेणी में पहला डीएलआर(DLR) उपग्रह है। एनएलएस 7.1(NLS 7.1) और एनएलएस 7.2(NLS 7.2) को सब-मीटर स्‍तर की सही स्थिति नियंत्रण प्रणाली के लिए तैयार किया गया है। वीईएलओएक्‍स(VELOX) को इमेज सेंसर और अंतर-उपग्रह आरएफ लिंक के वर्तमान डिजाइन के लिए टेक्‍नोलॉजी प्रदर्शक के रुप में तैयार किया गया है।

44.4 मीटर लंबे और वजन 230 टन वजनी PSLV में बारी-बारी से ठोस और तरल प्रणोदन प्रणालियों का इस्‍तेमाल किया जाता है| ठोस प्रणोदक इसके पहले और तीसरे चरण के लिए, तरल प्रणोदक दूसरे और चौथे चरण के लिए इस्‍तेमाल किया जाता है| इस उड़ान में इसरो द्वारा विकसित अत्‍याधुनिक जलत्‍वीय नौवहन प्रणाली (AINS)) का इस्‍तेमाल किया जा रहा है।

ठोस प्रणोदक (पहला एवं तीसरा चरण)

1. HTBP - Hydroxyl Terminated Poly Butadiene

2. UH 25 - Unsymmetrical Dimethyl Hydrazine + 25% Hydrazine Hydrate

तरल प्रणोदक (दूसरा एवं चौथा चरण)

1. N2O4 - Nitrogen Tetra oxide

2. MMH - Mono Methyl Hydrazine: MON 3 - Mixed Oxides of Nitrogen

अप्रैल 2014 तक पीएसएलवी की लगातार 25 सफल उड़ानें छोड़ी जा चुकी हैं। अपने भिन्न रूपों में पीएसएलवी ने साबित कर दिया है कि उसमें एक प्रक्षेपण में बहु अंतरिक्ष उपकरण ले जाने, बहु मिशन क्षमता और 24 घंटे की निश्चित अवधि के साथ एक कक्षा की प्रक्षेपण क्षमता है। पीएसएलवी की शानदार सफलता ने पीएसएलवी को इसरो के विश्‍वसनीय प्रक्षेपण यान का दर्जा दिला दिया है|

भारत ने 1999 से लेकर अब तक पीएसएलवी के जरिये 35 विदेशी एवं 29 भारतीय कुल 65 उपग्रह अंतरिक्ष के केंद्र में स्थापित किए हैं। इस नए अभियान के जरिये इसकी संख्या 40+29=69 हो जाएगी।

भारत ने अपने अंतरिक्ष अभियान की शुरुआत 1975 में रूसी रॉकेट के जरिये आर्यभट्ट के प्रक्षेपण से की थी। चांद व मंगल अभियान सहित भारत ने अपने 100 से अधिक अंतरिक्ष अभियान पूरे कर लिए हैं।

PSLV की उड़ाने व इसके द्वारा प्रक्षेपित उपग्रह The flights and satellite launched by PSLV
उड़ान Flight प्रकार Variant लॉन्च तिथि Launch date पेलोड Payload पेलोड भार Payload mass परिणाम Result 
D1 PSLV 20-SEPT-1993 IRS-1E (भारत) 846KG असफल
D2 PSLV 15-OCT-1994 IRS-P2 (भारत) 804KG सफल
D3 PSLV 21-MAR-1996 IRS-P3 (भारत) 920KG सफल
C1 PSLV 29-SEPT-1997 IRS-1D (भारत) 1250KG आंशिक रूप से असफल
C2 PSLV 26-MAY-1999 OCEANSAT-1 (भारत) 1150KG सफल, पहली वाणिज्यिक शुरुआत और कई उपग्रहों को ले जाने वाली पहली उड़ान
DLR-TUBSAT (जर्मनी) 107KG
KITSAT (द. कोरिया) 45KG
C3 PSLV 22-OCT-2001 TES (भारत) 1108KG सफल
PROBA (यूरोप) 94KG
BIRD (जर्मनी) 92KG
C4 PSLV 12-SEPT-2002 METSAT-1(Kalpana-1) (भारत) 1060KG भारत का पहला GTO प्रक्षेपण, पेलोड क्षमता 1050KG से बढ़कर 1200KG हुई
C5 PSLV 17-OCT-2003 RESOURCEST-1 (भारत) 1360KG सफल
C6 PSLV 5-MAY-2005 CARTOSAT-1 1560KG सफल
HAMSAT 42.5KG
C7 PSLV 10-JAN-2007 CARTOSAT-2 (भारत) 680KG सफल
SRE (भारत) 500KG
LAPAN-TUBSAT(इंडोनेशिया) 56KG
PEHUNSAT-1 (अर्जेंटीना) 6KG
C8 PSLV-CA 23-APR-2007 AAM(भारत) 185KG सफल
AGILE (इटली) 352KG
C10 PSLV-CA 21-JAN-2008 TECSAR (इसराइल) 295KG सफल, इसरो की पहली पूर्ण रूप से वाणिज्यिक उड़ान
C9 PSLV-CA 28-APR-2008 CARTOSAT-2A (भारत) 690KG सफल
IMS-1/TWSAT (भारत) 83KG
RUBIN-8 (जर्मनी) 8KG
CANX-6/NTS (कनाडा) 6.5KG
CANX-2 (कनाडा) 3.5KG
CUTE1.7+APDII (जापान) 3KG
DELFI-C3 (नीदरलैंड) 2.2KG
SPEEDS-2 (जापान) 1KG
COMPASS-1 (जर्मनी) 1KG
AAUSAT-II (डेनमार्क) 0.75KG
C11 PSLV-XL 22-OCT-2008 Chandrayaan-1 (भारत) 1380KG सफल, चंद्रमा की पहली भारतीय उड़ान
C12 PSLV-CA 20-APR-2009 RISAT-2 (भारत) 300KG सफल, भारत का पहले राडार इमेजिंग उपग्रह (RISAT)
ANUSAT (भारत) 40KG
C14 PSLV-CA 23-SEPT-2009 OCEANSAT-2 (भारत) 960KG सफल
RUBIN 9.1 (लॅक्सेमबर्ग) 8KG
RUBIN 9.2 (जर्मनी) 8KG
SWISSCUBE-1 (स्विट्ज़रलैंड) 1KG
BEESAT (जर्मनी) 1KG
UWE-2 (जर्मनी) 1KG
ITUpSAT-1 (तुर्की) 1KG
C15 PSLV-CA 12-JULY-2010 Cartosat-2B (भारत) 690KG सफल
ALSAT-2A (अल्ज़ीरिया) 117KG
AISSat-1 (नार्वे) 6.5KG
TISAT-1 (स्विट्ज़रलैंड) 1KG
STUDSAT (भारत)
C16 PSLV 20-APR-2011 RESOURCESAT-2 (भारत) 1206KG सफल
X-SAT (सिंगापुर) 106KG
YouthSAT (भारत, रूस) 92KG
C17 PSLV-XL 15-JULY2011 GSAT-12 (भारत) 1410KG सफल, विक्रम उड़ान कंप्यूटर का पहली बार इस्तेमाल
C18 PSLV-CA 12-OCT-2011 Megha-Tropiques (भारत, फ्रांस) 1000KG सफल
SRMSAT (भारत) 10.9KG
Jugnu (भारत) 3KG
VesselSat-1 (लक्सेमबर्ग) 28.7KG
C19 PSLV-CA 26-APR-2012 RISAT-1 (भारत) 1850KG सफल
C21 PSLV-CA 9-SEPT-2012 SPOT-6 (फ्रांस) 720KG सफल
PROITERES (जापान) 15KG
Mresins (भारत)
C20 PSLV-CA 25-FEB-2013 SARAL (भारत, फ्रांस) 409KG सफल, आस्ट्रिया ने पहली बार अपना उपग्रह प्रक्षेपित किया
Sapphire  (कनाडा) 148KG
NEOSAT-  (कनाडा) 74KG
TUGSAT-1 (आस्ट्रिया) 14KG
UNIBRITE (आस्ट्रिया) 14KG
STRaND-1 (इंग्लैंड) 6.5KG
AAUSAT-3 (डेनमार्क) 0.8KG
C22 PSLV-XL 1-JULY-2013 IRNSS-1A 1425KG सफल, भारत का पहला क्षेत्रीय नेविगेशन उपग्रह
C25 PSLV-XL 5-NOV-2013 Mars Orbiter Mission, (भारत) 1350KG सफल, भारत का पहला मंगल ग्रह परिक्रमा मिशन
C24 PSLV-XL 4-APR-2014 IRNSS-1B 1432KG सफल, भारत का दूसरा क्षेत्रीय नेविगेशन उपग्रह
C23 PSLV-CA 30-JUNE-2014 SPOT-7 (फ्रांस) 714KG सफल, सफल, इसरो की तीसरी पूर्ण रूप से वाणिज्यिक उड़ान
Can-X4 (कनाडा) 15KG
Can-X5 (कनाडा) 15KG
AISAT (जर्मनी) 14KG
VELOX-1 (सिंगापुर) 7KG

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Mobile application powered by Make me Droid, the online Android/IOS app builder.