बौद्धकालीन भारत India During the Buddha

भारतीय इतिहास में बुद्ध का आगमन एक क्रान्तिकारी घटना है। उनका जन्म छठी शताब्दी ई.पू. में हुआ था। भारतीय इतिहास में यह काल बुद्ध युग के नाम से विख्यात है। 600 ई.पू. से लेकर 400 ई.पू. तक का काल-खण्ड भारतीय इतिहास का महत्त्वपूर्ण काल-खण्ड है। इस काल-खण्ड में भारत के इतिहास-गगन पर युग प्रवर्त्तनकारी घटनाएँ घटित हुई। इन घटनाओं ने भारत के राजनैतिक एवं धार्मिक जीवन को नए आयाम दिए। राजनैतिक दृष्टि से इस काल-खण्ड में सशक्त केन्द्रीय राजनैतिक शक्ति का अभाव था और समस्त देश छोटे-बड़े अनेक राज्यों में विभक्त था। इन राज्यों में षोडस महाजनपद (सोलह महाजनपद) सुविख्यात हैं। अंग, मगध, काशी, कोशल, वज्जि, मल्ल, चेदी, वत्स, कुरू, पांचाल, मत्स्य, सूरसेन, अस्सक, अवन्ति कम्बोज तथा गान्धार, ये सोलह महाजनपद थे। इन महाजनपदों में कुछ में राजतंत्रात्मक व्यवस्था थी तो कुछ में प्रजातंत्रात्मक। राजनैतिक एकता के अभाव में ये महाजन पद आपस में लड़ते रहते थे और शक्तिशाली महाजनपद अशक्त राज्यों पर अपना प्रभुत्व स्थापित कर लेता था। इन महाजनपदों के अतिरिक्त दस गणराज्य थे। ये इस प्रकार थे-कपिल वस्तु के शाक्य, अल्लकय बुली, केसपुत्र के कालाम, रामग्राम के कोलिय, सुसभागिरि के भाग, पावा के भल्ल, कुशी नारा के मल्ल, यिप्पलिवन के मोरिय, मिथिला के विदेइ तथा वैशाली के लिच्छवि।

यह काल-खण्ड धार्मिक दृष्टि से भारत के दो प्रभावकारी धर्मों के अभ्युदय का युग है। ये धर्म हैं- जैन धर्म और बौद्ध धर्म। ये दोनों धर्म पारम्परिक वैदिक धर्म की मान्यताओं यथा कर्मकाण्ड यज्ञ आदि के विरुद्ध थे। जैन धर्म के प्रवर्त्तक ऋषभदेव थे जो प्रथम तीर्थंकर थे। जैन धर्म में कुल 24 तीर्थंकर हुए हैं जिन्होंने जैन धर्म का प्रचार प्रसार किया। बौद्ध धर्म के प्रवर्त्तक महान गौतम बुद्ध थे जिनके व्यक्तित्व और कृतित्व का न केवल भारतवासियों पर प्रभाव पड़ा प्रत्युत भारत के बाहर भी उसका व्यापक प्रसार हुआ। आज भी भारत के बाहर अनेक देशों यथा चीन, तिब्बत, कोरिया, श्रीलंका, जापान आदि देशों में इस महान् विभूति के समर्थकों और अनुयायियों की विशाल जनसंख्या है। आज भी भारत में गौतम बुद्ध के जन्म और जीवन से जुड़े अनेक पवित्र कोटि-कोटि भारतीयों और श्रद्धालुओं की आस्था के पावन स्थल के रूप में प्रतिष्ठापित है।

विस्तार

वैदिक युग के जन पहले जनपद और फिर अब महाजनपद के रूप में विकसित हो गए। महाजनपदों का विस्तार उ.भारत में पाकिस्तान और दक्षिण में गोदावरी तक हुआ। 15 महाजनपद नर्मदा से उत्तर में है जबकि एक अश्मक, नर्मदा नदी के दक्षिण में स्थित है। बौद्ध ग्रन्थ अगुत्तरनिकाय एवं महावस्तु तथा जैन ग्रन्थ भगवती सूत्र से 16 महाजनपदों के बारे में सूचना मिलती है। उसी तरह भगवती सूत्र में बंग एवं मलय महाजनपद की चर्चा की गयी है। अंगुत्तर निकाय में 16 महाजनपदों का उल्लेख मिलता है। सबसे अधिक जनपद गंगा घाटी में देखे जा सकते हैं।

अंग- इसकी राजधानी चम्पा थी। यह आधुनिक भागलपुर के निकट था। मगध के शासक बिम्बिसार ने यहाँ के शासक ब्रह्मदत को पराजित कर मगध साम्राज्य में मिला लिया।

अवन्ति- पश्चिम भारत में यह मालवा एवं मध्य प्रदेश में स्थित था। उत्तरी अवन्ति की राजधानी उज्जैन एवं दक्षिण अवन्ति की राजधानी महिष्मति थी। गौतम बुद्ध के समय अवन्ति का शासक चण्डप्रद्योत था। मगध सम्राट् शिशुनाग ने अवन्ति को मिला लिया।

अशमक- यह गोदावरी नदी के किनारे स्थित था। इसकी राजधानी पतिन या पोतना थी। संभवत: अवन्ति ने इसे अपने राज्य में मिला लिया।

चेदि- यह यमुना नदी के किनारे स्थित था। इसकी राजधानी सोत्थिवती थी। महाभारत में इस नगर का नाम शक्तिमती या शुल्डि-साह्य भी आया है। छठी शताब्दी के मध्य में गंधम् के सिंहासन पर राजा पुक्कुसाति आसीन था। इसका सबसे महत्त्वपूर्ण राजा शिशुपाल था, जिसकी चर्चा महाभारत में हुई है।

गांधार- इसके अन्तर्गत पाकिस्तान एवं अफगानिस्तान का भाग आता था। इसकी राजधानी तक्षशिला थी। यह विद्या एवं व्यापार का महत्त्वपूर्ण केन्द्र था। प्रो. हेमचंद्र राय चौधरी के अनुसार, छठी सदी ई.पू. उत्तरार्ध में गांधार पर फारस (इरान) का अधिकार हो गया।

काशी- इसकी राजधानी वाराणसी थी। प्रारंभ में यह एक शक्तिशाली राज्य था। छठी सदी ई.पू. में काशी सम्भवत: सर्वाधिक शक्तिशाली था। अनेक जातकों में वाराणसी को भारतवर्ष के प्रमुख नगरों में माना गया है। सोननन्द जातक के अनुसार, काशी के राजा मनोज ने कोशल, मगध और अंग राज्य के राजाओं को अपने अधीन कर लिया था। काशी की महिमा-गरिमा के कारण पड़ोसी राज्य काशी पर प्रभुत्व स्थापित करने के लिए प्रयत्नशील रहते थे। डॉ. हेमचन्द्र राय चौधरी ने काशी की तुलना प्राचीन बेबीलोन तथा मध्यकालीन सेन से की है। कालान्तर में काशी कोशल के साम्राज्यवाद का शिकार हो गया। जैन तीर्थकर पाश्र्वनाथ के पिता अश्वसेन काशी के राजा थे।

कोशल- कोशल राज्य के पश्चिम में गोमती, दक्षिण में रुचिका या स्यन्दिका अर्थात् यह नदी, पूर्व में विदेह से कोशल को अलग करने वाली सदा नीरा तथा उत्तर में नेपाल की पहाड़ियाँ थीं। सरयू नदी इसे दो भागों में विभाजित करती थी। उ. कोशल की आरंभिक राजधानी श्रावस्ती थी। बाद में वह साकेत या अयोध्या हो गई। द. कोशल की राजधानी कुशावती थी। प्रसेनजित और विदुधान के प्रयास से कोशल राज्य का विस्तार हुआ। काशी, मल्ल और शाक्य को कोशल के साम्राज्यवाद का शिकार होना पड़ा। अजातशत्रु ने कोशल को मगध साम्राज्य में मिला लिया।

कुरु- यह दिल्ली-मेरठ क्षेत्र में विस्तृत था। इसकी राजधानी इन्द्रप्रस्थ थी। सूतसोम जातक के अनुसार, कुरू राज्य का विस्तार 900 मी. था। पालि ग्रंथों के अनुसार, इस राज्य पर युधिष्ठिला-वंश (युधिष्टिर के वंश) के राजा राज्य करते थे। आधुनिक दिल्ली के पास इन्द्रपत्त या इन्द्रपत्तन (इन्द्रपत या इन्द्रप्रस्था) कुरु की राजधानी थी।

कम्बोज- यह पश्चिमी सीमा का दूसरा महत्त्वपूर्ण राज्य था। इसकी राजधानी हाटक या राजपुर थी। इसके दो महत्त्वपूर्ण शासक चन्द्रवर्धन और सुदक्षिण थे। विविध शिलालेखों में कम्बोज तथा गान्धार को एक-दूसरे से सम्बद्ध कहा गया है। गान्धार की भाँति कम्बोज भी सुदूर उत्तरापथ का राज्य था। महाभारत में कम्बोजों को राजपुर नामक स्थान से सम्बन्धित कहा गया है। महाभारत में उल्लिखित राजपुर नामक स्थान पुंछ के दक्षिण-पूर्व में था। कम्बोज ब्राह्मण विधा का सुविख्यात केन्द्र था।

मगध- आधुनिक पटना, गया एवं शाहाबाद का क्षेत्र इस राज्य में शामिल था। इसकी प्राचीन राजधानी गिरिव्रज (या राजग्रह) थी। मगध शब्द का उल्लेख सर्वप्रथम अथर्ववेद में आया है। मगध की गाथाओं की प्राचीनता के विषय में कहा गया कि यह उतनी ही प्राचीन हैं जितनी की यजुर्वेद। बाद में इसकी राजधानी पाटलिपुत्र हो गई। पुराणों के अनुसार इस वंश का प्रथम शासक शिशुनाग था। किन्तु बौद्ध लेखक इसकी वंशावली हर्यक वंश के प्रथम शासक बिम्बिसार से प्रारंभ करते हैं। उसका शासन काल 544 ई.पू. से 492 ई.पू. था। इसका वृज्जि (लिच्छवि) कोशल एवं मद्र क्षेत्रों से वैवाहिक संबंध था। वैवाहिक संबंध के बदले कोशल से इसे काशी का गाँव प्राप्त हुआ, जिसका राजस्व एक लाख सिक्के वार्षिक था। इससे संकेत मिलता है कि उस समय भू-राजस्व का आकलन मुद्रा में होने लगा था। बिम्बिसार ने अंग के शासक ब्रह्मदत को पराजित करके अंग को मगध साम्राज्य में मिला लिया। बिम्बिसार ने 80 हजार ग्राम भोजकों की एक सभा बुलाई। मगध के पुनर्गठन का श्रेय भी बिम्बिसार को दिया जाता है। शासन कार्य में राजा की सहायता के लिए बहुत-से महामात्र होते थे। इनकी तीन श्रेणियाँ होती थीं- (i) सब्बधक (सामान्य मामलों का कर्ता-धर्ता), (ii) सेनानायक महामत्त, (iii) वोहारिक महामत्त (न्यायाधीश वर्ग)। राज्य के सामान्य प्रशासन के पदाधिकारियों को सत्वात्थक कहा जाता है गांधार के शासक पुष्कासीरिन से इसके राजनयिक संबंध थे। अवन्ति के शासक चन्द्रप्रद्योत महासेन की चिकित्सा के लिए उसने अपने राजवैद्य जीवक को भेजा। इसने मगध साम्राज्य की राजधानी गिरिव्रज की स्थापना की। उसके पुत्र अजातशत्रु ने उसकी हत्या कर दी। बिम्बिसार श्रेणिक के नाम से जाना जाता था। उसका उत्तराधिकारी अजातशत्रु (492 ई.पू.-460 ई.पू.) हुआ।

अजातशत्रु कुणिक के नाम से जाना जाता था। उसने अपने पिता की साम्राज्यवादी नीति को आगे बढ़ाया। उसने कोशल को पराजित किया और प्रसेनजित की पुत्री वजीरा से शादी की। माना जाता है कि उसने वृज्जि संघ की शक्ति को तोड़ दिया। अपने मंत्री सुनीध एवं वर्षाकार की मदद से वह वज्जि संघ में फूट डलवाने में सफल रहा और फिर उसने इस संघ को समाप्त कर दिया। भगवती सूत्र के अनुसार, अजातशत्रु ने 9 लिच्छवियों, 9 मल्लों तथा काशी कोशल के 18 गणराज्यों के संघ को परास्त किया। पुराणों के अनुसार, अजातशत्रु का निकटतम उत्तराधिकारी दर्शक था। किन्तु जैन एवं बौद्ध लेखक उदयन को उसका उत्तराधिकारी मानते हैं। उदयन को यह श्रेय दिया जाता है कि उसने कुसुमपुर या पाटलिपुत्र की नींव डाली।

मल्ल- मल्ल प्रदेश दो भागों में विभक्त था। एक की राजधानी कुशीनरा थी। तथा दूसरे की पावा। मल्ल में राजतंत्रात्मक शासन-व्यवस्था थी तथा इक्ष्वाकु और महासुदासन यहाँ के प्रसिद्ध सम्राट् थे। बाद में यहाँ गणतंत्रात्मक शासन-व्यवस्था स्थापित हुई। अजातशत्रु ने मल्ल को अपने राज्य में मिला लिया था।

मत्स्य- यह भरतपुर, जयपुर एवं अलवर क्षेत्र में विस्तृत था। इसकी राजधानी विराटनगर थी। मत्स्य को चेदि के द्वारा मिला लिया गया।

पांचाल- यह प. उत्तर प्रदेश में स्थित था। इसकी राजधानी अहिच्छत्र और कांपिल्य थी।

सूरसेन- यह मथुरा प्रदेश में स्थित था। इसके शासक यदु या यादव कहलाते थे।

वृज्जि- वज्जि संघ में आठ गणराज्य शामिल थे। इसमें वज्जि, विदेह और लिच्छवि प्रमुख थे।

वत्स- इसकी राजधानी कौशांबी थी। माना जाता है कि कुरु वंशज ने एक बाढ़ के कारण हस्तिनापुर को छोड़ दिया और उन्होंने नये जनपद वत्स को जन्म दिया।

शिशुनागवंश- बौद्ध साहित्य के अनुसार राजा नागदार्शक को नागरिकों के द्वारा निष्कासित कर दिया गया। फिर नागरिकों ने एक सभा बुलाई और शिशुनाग को शासक नियुक्त किया। शिशुनाग का उत्तराधिकारी कालाशोक हुआ। उसके बाद उसके दस पुत्र राजा हुए। इनमें नवम् नन्दिवर्धन एवं दशम पंचमक थे। शिशुनाग ने अवन्ति को मगध में मिला लिया। शिशुनाग का उत्तराधिकारी कालाशोक या काकवर्णन था। कालाशोक के विषय में कहा जाता है कि उसने पाटलिपुत्र के अतिरिक्त वैशाली को भी अपनी राजधानी बनाई थी।

नंद वंश- नंद वंश की स्थापना उग्रसेन या महापद्मनंद ने की। पुराण उसे शिशुनाग वंश का अंतिम राजा महानन्दिन का पुत्र और शूद्र स्त्री से उत्पन्न बताता है। दूसरी तरफ जैन लेखक उसे एक नाई और वेश्या का पुत्र बताते हैं। पुराणों में उसे सर्व क्षत्रातंक की उपाधि दी गई है। कलिंग के शासक खारवेल के हाथी गुफा अभिलेख से यह ज्ञात होता है कि उसने कलिंग के कुछ क्षेत्रों पर अपना आधिपत्य स्थापित किया। उसके राज्य के अंतर्गत पंजाब से संपूर्ण उत्तरी भारत, मालवा मध्य प्रदेश तथा गोदावरी नदी तक का इलाका आ गया। प्रथम नंद के लगभग आठ उत्तराधिकारी माने जाते हैं। धनानंद इस वंश का अंतिम शासक था। इसे ग्रीक लेखक अग्रमीज कहते हैं।

अराजक गणतंत्र

बुद्ध कालीन पाली ग्रन्थों के अध्ययन से यह पता चलता है कि उस समय कुछ गणतंत्र भी थे-

  1. कपिलवस्तु के शाक्य।
  2. सुसुभारगिरि के भग्ग या भर्ग।
  3. अलकप्प के बुली।
  4. केसपुत्त के कलाम-बुद्ध के गुरु अलार कलाम इसी से संबंद्ध थे।
  5. रामगाम का कोलिय- ये शाक्यों से पूरब की ओर बसे हुए थे और दोनों की सीमा रोहिणी नदी थी। शाक्यों एवं कोलिय के बीच विवाद भी हुआ करते थे। इसी प्रकार के एक झगड़े को महात्मा बुद्ध ने निपटाया था।
  6. पावा के मल्ल।
  7. कुशीनारा के मल्ल आधुनिक कसिया जिला में बसे थे। यह इस बात से भी प्रमाणित होता है कि वहाँ एक छोटे मंदिर में बुद्ध की परिनिर्वाण मुद्रा में मूर्ति मिली है।
  8. पिप्पलिवन के मोरिय।
  9. मिथिला के विदेह-पहले यह राजतंत्रात्मक राज्य था, किन्तु अब यह एक गणतंत्र हो चुका था।
  10. वैशाली के लिच्छवि।

राजनैतिक अवस्था और प्रशासन इस काल में राजत्व के सिद्धान्त में भी बहुत से परिवर्तन हुए। इस काल में जनपद का स्थान महाजनपद ले रहा था तथा राज्य के अंतर्गत बहुत-सी गैर आर्य जनजातियाँ भी शामिल हो रही थीं। अब कर का भुगतान करने वाले नये आर्थिक समूहों का निर्माण हो रहा था। अत: करारोपण प्रणाली नियमित हो गई एवं बलि, शुल्क और भाग नामक कर पूरी तरह स्थापित हो गए। राजा की शक्ति में वृद्धि हुई, क्योंकि स्थायी सेना एवं रक्त संबंध से पृथक नौकरशाही की स्थापना हुई। इस काल में सर्वप्रथम स्थायी सेना का गठन हुआ। इसके प्रमाण हैं कि बिम्बिसार अपने को क्षेत्रीय बिम्बिसार कहता था जिसका अर्थ है सेना का बिम्बिसार। उसी तरह कोशल का शासक अपने को अधिकारमदमर्त्त कहता था। राजा की शक्ति में वृद्धि हुई और उसे ब्राह्मण और सेठी को भूमि अनुदान देने में समुदाय की अनुमति लेने की आवश्यकता नहीं थी। रक्त संबंध से पृथक नौकरशाही स्थापित हुई। अधिकतर अधिकारी पुरोहित वर्ग से चुने जाते थे। नये अधिकारियों में आयुक्त एवं महामात्र की चर्चा मिलती है। उत्तर वैदिक काल में हम करारोपण से जुड़े भागदुघ नामक अधिकारी की चर्चा सुनते थे। किन्तु इस युग में करारोपण से जुड़े आधे दर्जन अधिकारियों की चर्चा सुनते हैं।

बलिसाधक- बलि वसूल करने वाला अधिकारी था।

शौल्किक शुल्काध्यक्ष था जिसका कार्य शुल्क वसुलना था।

रज्जुग्राहक भूमि की माप करने वाला अधिकारी था।

द्रोणमापक- अनाज के तौल का निरीक्षण करने वाला अधिकारी था। जातक कथाओं में हमें कुछ दमनात्मक कार्यवाही की चर्चा भी मिलती है। दो अधिकारी तुन्दिया एवं अकाशिया बलपूर्वक कर की वसूली करते थे।

सभा एवं समिति जैसी आदिम संस्थाओं का अंत हो गया और उनका स्थान परिषद् ने ले लिया। राजकीय मुहर का प्रथम प्रयोग इसी युग में आरम्भ हुआ। राजकीय दस्तावेज की परम्परा भी यहीं से शुरू हुई। अक्षपटलाधिकृत नामक अधिकारी की नियुक्ति हुई। कौटिल्य राज्य के लोक कल्याणकारी रूप पर बल देता है। कानून एवं अदालत का प्रथम विकास इसी युग में हुआ। लेखन कला के विकास के साथ प्रशासन में दक्षता आई। जाति विभाजित समाज में पुराने समतावादी कानून बाधक सिद्ध हो रहे थे। अत: कबिलाई कानून का स्थानं जाति कानूनों ने ले लिया। प्रशासन की छोटी इकाई के रूप में कुल के स्थान पर ग्राम स्थापित हुआ। ग्राम और उससे ऊपर की इकाइयों की चर्चा समकालीन ग्रन्थों में की गई है। ये इकाइयाँ इस प्रकार हैं-

  1. ग्राम
  2. खरवटक- 200 ग्रामों का संघ
  3. द्रोणमुख- 400 ग्रामों का संघ
  4. पतन- व्यापार या खानों का केन्द्र
  5. मंतभ- दस हजार ग्रामों और दुर्गों का संघ
  6. नगर
  7. निगम-व्यापारियों की बस्ती
  8. राजधानी

प्रथम बार इसी युग में निवास की भूमि और कृषि की भूमि अलग-अलग हुई। राजा की शक्ति में विकास के परिणामस्वरूप राजस्व से संबंधी दो अवधारणाएँ विकसित हुई।

राजत्व की रहस्यवादी अवधारणा- यह ब्राह्मणों के द्वारा प्रतिपादित की गयी और इसका आधार ऐतरेय ब्राह्मण है।

राजत्व का अनुबंधात्मक (समझौतावादी) सिद्धांत- यह बौद्ध विचारकों के द्वारा प्रतिपादित है और महासम्मत की अवधारणा पर आधारित है। इसका आधार बौद्ध ग्रन्थ दीघ निकाय है। इस युग में राजतंत्र के अतिरिक्त गणतंत्र भी थे, इन्हें हम गण या संघ के नाम से जानते हैं। गणतंत्र में वास्तविक सत्ता कबिलाई अल्पतंत्र में निहित थी। शाकयों एवं लिच्छवि के गणराज्यों में शासक वर्ग एक ही गोत्र एवं एक ही वर्ण के होते थे। वैशाली के लिच्छवियों की सभा में 7707 सदस्य थे जो राजा कहलाते थे। किन्तु ब्राह्मणों को इसमें शामिल नहीं किया गया था। जैसे, मौर्योत्तर काल में मालव एवं क्षुद्रकों के गणराज्य में ब्राह्मण एवं क्षत्रिय को नागरिकता प्राप्त थी, किन्तु दासों एवं शूद्रों को नहीं। पंजाब में व्यास नदी के आस-पास एक ऐसा गणतंत्र था, जिसके सभागार में ऐसे ही लोग सदस्य हो सकते थे जो कम से कम एक हाथी दे सकते थे। शाक्यों एवं लिच्छवियों का प्रशासन तंत्र सरल था, इसमें राजा, उपराजा, सेनापति एवं भाण्डागरिक (राजकोषाध्यक्ष) शामिल होते थे। ग्रीक लेखकों के अनुसार, उ.प. के एक राज्य, पातल में एक विशिष्ट प्रकार की व्यवस्था थी। इसमें युद्ध के समय दो वंशानुगत राजा मिलकर शासन करते थे और शांति के समय शासन का संचालन वृद्ध जनों की एक परिषद् द्वारा होता था। उसी तरह सौभूति एवं अम्बष्ठ के गणतंत्र में बच्चों के लालन-पालन का अधिभार राज्य अपने हाथ में लेता था ताकि बच्चे स्वस्थ पैदा हो सके। मूषिकवंश एक ऐसा राज्य था जहाँ दास नहीं पाये जाते थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Mobile application powered by Make me Droid, the online Android/IOS app builder.