16वीं लोक सभा के सदस्यों से सम्बंधित महत्वपूर्ण तथ्य Important facts of Members of the 16th Lok Sabha

सोलहवीं लोक सभा का गठन करने हेतु आम चुनाव 7 अप्रैल 2014 से शुरू होकर 12 मई 2014 तक नौ चरणों में हुए थे। परिणाम 16 मई 2014 को घोषित हुए थे। 18 मई 2014 को सोलहवीं लोक सभा का विधिवत् गठन किया गया था।

लोक सभा के लिए निर्वाचित 543 सदस्यों के जीवनवृत्त का कुछ मानदंडों जैसे, आयु, शैक्षिक योग्यता, व्यवसाय और विधायी अनुभवों के संदर्भ में अध्ययन करने का प्रयास किया गया है। इस अध्ययन में उपर्युक्त मानदंडों के आधार पर महिला सदस्यों के जीवनवृत्त पर एक पृथक खंड भी शामिल किया गया है। यह विश्लेषण सभा के गठन की तारीख को 543 सदस्यों के जीवनवृत्त पर आधारित है। तथापि, आंकड़ों का राज्यवार विश्लेषण, जहां भी लागू हो, 2 जून 2014 को तेलंगाना राज्य के अस्तित्व में आने को दर्शाता है।

543 में दो सदस्य नामतः श्री नरेन्द्र मोदी और श्री मुलायम सिंह यादव शामिल हैं जो दो-दो निर्वाचन क्षेत्रों से जीते थे। जहाँ श्री नरेंद्र मोदी ने वाराणसी सिट रखी और वडोदरा सीट खाली कर दी, श्री मुलायम सिंह यादव ने आजमगढ़ सीट रखी और मैनपुरी सीट खाली कर दी। श्री के. चन्द्रशेखर राव ने 29 मई 2014 को लोक सभा सीट से त्यागपत्र दे दिया और एक सदस्य श्री गोपीनाथ मुंडे का 3 जून 2014 को निधन हो गया।

16वीं लोक सभा के सदस्यों का आयु संबंधी विवरण

संविधान के प्रावधान के अंतर्गत लोक सभा का चुनाव लड़ने के लिए किसी व्यक्ति की आयु 25 वर्ष से कम नहीं होनी चाहिए। जहां एक ओर, 25-30 वर्ष के निम्नतम आयु समूह में 12 सदस्य हैं वहीं दूसरी ओर, 81-85 और 86-90 वर्ष के अधिकतम आयु समूहों में केवल एक-एक सदस्य है। 56-60 वर्ष के आयु समूह में सबसे अधिक 92 सदस्य हैं। 197 सदस्य (36.28 प्रतिशत) 50 वर्ष से कम आयु के हैं और 346 सदस्य (63.72 प्रतिशत) 50 वर्ष से अधिक आयु के हैं।

सदस्यों के आयु वर्गों का 5 वर्ष के अंतराल सहित विभाजन
25-30 वर्ष12
31-35 वर्ष21
36-40 वर्ष36
41-45 वर्ष58
46-50 वर्ष70
51-55 वर्ष87
56-60 वर्ष92
61-65 वर्ष83
66-70 वर्ष43
71-75 वर्ष28
76-80 वर्ष11
81-86 वर्ष01
86-90 वर्ष01

सदस्यों की औसत आयु के सम्बन्ध में, 12वीं लोकसभा (1998-99) सब्स्र कम आयु वाले सदस्यों की सभा थी, जिसमे औसत आयु औसत आयु 46.4 वर्ष थी और 13वीं लोकसभा के सदस्यों की आयु सबसे अधिक थी जिसकी औसत आयु 55.5 वर्ष थी। वर्तमान सभा में 53.8 वर्ष की औसत आयु के साथ औसत आयु के सम्बन्ध में दूसरी सबसे अधिक आयु की सभा है। श्री लाल कृष्ण आडवाणी (86 वर्ष) 16वीं लोक सभा के सबसे अधिक आयु वाले निर्वाचित सदस्य हैं जबकि श्री दुष्यंत चौटाला (26 वर्ष) को सबसे कम आयु का सदस्य होने का सम्मान प्राप्त है। श्रीमती रक्षा निखिल खाडसे जो 27 वर्ष की हैं, सबसे कम आयु की सदस्य हैं और श्रीमती विजया चक्रवर्ती, 75 वर्ष, 16वीं लोक सभा कीसबसे अधिक आयु की महिला सदस्य हैं।

लोक सभा सदस्यों की औसत आयु : पहली से सोलहवीं लोक सभा
लोक सभाऔसत आयु (वर्ष में)
पहली (1952-57)46.5
दूसरी (1957-62)46.7
तीसरी (1962-67)49.4
चौथी (1967-70)48.7
पांचवीं (1971-77)49.2
छठी (1977-79)5.2.1
सातवीं (1980-84)49.9
आठवीं (1985-89)51.4
नौवीं (1989-91)51.3
दसवीं (1991-96)51.4
ग्यारहवीं (1996-97)52.8
बारहवीं (1998-99)46.4
तेरहवीं (1999-2004)55.5
चौदहवीं (2004-2009)52.2
पन्द्रहवीं (2009-2014)53.7
सोलहवीं (2014-अब तक)53.8

सोलहवीं लोक सभा के लिए पहली बार निर्वाचित 315* सदस्यों के आयु विवरण का अध्ययन करने का प्रयास किया गया है। 56-60 वर्ष के आयु वर्ग में पहली बार निर्वाचित सदस्यों की संख्या 53 है जो कि अधिकतम है जबकि तीन सदस्य 76-80 वर्ष आयु वर्ग में हैं जो कि निम्नतम है। यह एक रोचक तथ्य है कि सोलहवीं लोक सभा में 25-30 वर्ष के आयु वर्ग में निर्वाचित सभी 12 सदस्य पहली बार लोक सभा के सदस्य बने हैं। पहली बार निर्वाचित कुल 315 सदस्यों में से 169 सदस्य अर्थात् 54% सदस्य 51 वर्ष और इससे ऊपर के आयु वर्ग में आते हैं।

पहली बार निर्वाचित सदस्यों के अलग-अलग आयु वर्ग
आयु वर्गसदस्यों की संख्या
25-3012
31-3517
36-4027
41-4541
46-5049
51-5546
56-6053
61-6540
66-7015
71-7512
76-8003
इसमें लोक सभा के लिए पहली बार निर्वाचित दो लोक सभा क्षेत्रों वडोदरा और वाराणसी से चुने गए सदस्य भी सम्मिलित हैं।

सदस्यों की शैक्षिक पृष्ठभूमि

सोलहवीं लोक सभा के सदस्यों के पास विविध शैक्षिक योग्यताएं हैं किन्तु उनके द्वारा ग्रहण की गयी उनकी उच्चतम शैक्षिक योग्यता को ही ध्यान में रहा गया है। मोटे तौर पर उनकी शैक्षिक पृष्ठभूमि को छह श्रेणियों में वर्गीकृत किया गया है अर्थात् अंडर मैट्रिक, मैट्रिक, अंडर ग्रेजुएट, ग्रेजुएट, पोस्ट ग्रेजुएट और डॉक्टरेट।

स्नातक सदस्यों की संख्या 226 (कुल सदस्य संख्या का 41.62 प्रतिशत) है जो 16वीं लोक सभा में शैक्षिक योग्यता में सबसे बड़ा वर्ग है। इस वर्ग में 160 सदस्य स्नातकोत्तर तक शिक्षा प्राप्त हैं जो दूसरा सबसे बड़ा वर्ग है।

सदस्यों की शैक्षिक पृष्ठभूमि की एक महत्वपूर्ण विशेषता यह है कि 33 सदस्यों के पास डॉक्टरेट की उपाधि है। 92 सदस्य मैट्रिक/इंटर पास हैं और 17 सदस्य अवर मैट्रिक हैं। वर्तमान लोक सभा में 77% से भी अधिक सदस्य स्नातक और उससे ऊपर शिक्षा प्राप्त हैं।

सदस्यों की शैक्षिक पृष्ठभूमि
अंडर मैट्रिकुलेट/प्रमाणित पाठ्यक्रम/अन्य173.13
मैट्रिक, इंटर/हाई सेकेंडरी, डिप्लोमाधारक9216.95
अंडर ग्रेजुएट152.77
ग्रेजुएट (समकक्ष तकनीकी/व्यावसायिक योग्यता प्राप्त सदस्य भी सम्मिलित हैं।)22641.62
पोस्ट ग्रेजुएट (समकक्ष तकनीकी/व्यावसायिक योग्यता प्राप्त सदस्य भी सम्मिलित हैं।)16029.46
डॉक्टरेट336.07

सदस्यों का व्यवसाय

16वीं लोक सभा के सदस्यों की व्यावसायिक पृष्ठभूमि का अध्ययन यह दर्शाता है कि सदस्य अनेक व्यवसायों और पेशों से जुड़े हुए हैं। अधिकांश सदस्य एक से अधिक व्यवसाय से जुड़े हुए हैं लेकिन सदस्यों ने जिस व्यवसाय का उल्लेख सबसे पहले किया है केवल उसी व्यवसाय को ध्यान में रखा गया है। व्यवसायों से संबंधित उपलब्ध आंकड़ों के अनुसार, इन्हें मुख्यतः 15 व्यवसायों में वर्गीकृत किया गया है। सदस्यों द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार सबसे बड़ा समूह कृषक/किसानों का है और लगभग 166 सदस्य इस व्यवसाय से जुड़े हुए हैं। 133 सदस्यों का दूसरा सबसे बड़ा वर्ग सामाजिक या राजनैतिक कार्यकर्ताओं का है। 16वीं लोक सभा में 79 व्यवसायी, 54 अधिवक्ता और 26 चिकित्सक हैं।

व्यावसायिक पृष्ठभूमि के संबंध में पहली और दूसरी लोक सभा में दूसरा सबसे बड़ा समूह कृषकों का था। यह रोचक तथ्य है कि तीसरी लोक सभा से लेकर सोलहवीं लोक सभा तक व्यावसायिक श्रेणियों में कृषकों, किसानों का समूह सबसे बड़ा समूह रहा है। नौवीं लोक सभा के पश्चात् व्यावसायिक दृष्टि से राजनीतिक और सामाजिक कार्यकर्ताओं का समूह दूसरे स्थान पर रहा है। पन्द्रहवीं लोक सभा में क्रमश: 193 सदस्यों (35.54 प्रतिशत) और 147 सदस्यों (27.07 प्रतिशत) ने कृषकों और राजनीतिक एवं सामाजिक कार्यकर्ताओं के रूप में अपने व्यवसाय की घोषणा की थी। यह उल्लेखनीय है कि पहली और दूसरी लोक सभा में अधिवक्ताओं वकीलों का समूह सबसे बड़ा समूह था जिसमें क्रमशः अधिवक्ता 153 (35.42 प्रतिशत) और वकील 147 (30-25 प्रतिशत) थे। तीसरी, पांचवीं, छठी, सातवीं और आठवीं लोक सभा में वकीलों का समूह दूसरा सबसे बड़ा समूह था।

543 सदस्यों की व्यावसायिक पृष्ठभूमि
सदस्यों की संख्याप्रतिशत
कृषक/किसान16630.57
सामाजिक और राजनैतिक कार्यकर्ता13324.49
व्यवसायी, व्यापारी, ट्रांसपोर्टर7914.54
अधिवक्ता549.94
चिकित्सक264.78
कलाकार, फिल्म कलाकार173.13
प्रोफेसर, शिक्षाविद, शिक्षक, शिक्षक (सेवानिवृत्त)264.78
उद्योगपति, भवन निर्माता101.84
पत्रकार, लेखक71.28
सिविल, पुलिस और मिलिट्री सेवाएं, राजनयिक71.28
धार्मिक मिशनरी, समाज सुधारक20.36
खिलाड़ी, क्रिकेटर20.36
रणनीतिक परामर्शदाता, परामर्शदाता50.92
इंजीनियर, चार्टर्ड अकाउंटेंट50.92
अन्य40.73

16वीं लोक सभा के सदस्यों का विधायी अनुभवः मुख्य बातें

विधायी अनुभव सदस्यों के जीवनवृत्त का एक अन्य महत्वपूर्ण पहलू है। 16वीं लोक सभा के सदस्यों के विधायी अनुभव से संबंधित अध्ययन में लोक सभा, राज्य सभा, राज्यों की विधान सभा और विधान परिषद की सदस्यता सम्मिलित है। 16वीं लोक सभा की एक मुख्य विशेषता यह है कि लोक सभा में 315 सदस्य पहली बार निर्वाचित हुए हैं जो कि कुल सदस्य संख्या का 58 प्रतिशत है। विधायी अनुभव के संबंध में कुछ महत्वपूर्ण तथ्य इस प्रकार हैं-

  • 315 सदस्य पहली बार निर्वाचित हुए हैं (58 प्रतिशत)।
16 वीं लोकसभा के लिए एक सदस्य पहली बार वडोदरा और वाराणसी, दो निर्वाचन क्षेत्रों से चुना गया है।
  • 62 में से 40 महिला सदस्य पहली बार निर्वाचित हुई हैं (64.5 प्रतिशत)।
  • पहली बार निवाचित 315 सदस्यों में से 190 सदस्यों (60.31 प्रतिशत) का लोक सभा, राज्य सभा, राज्यों की विधान सभाओं और विधान परिषदों का कोई विधायी अनुभव नहीं है।
  • 225 निर्वाचित सदस्यों के पास पूर्व लोक सभा का अनुभव है।
  • 169 सदस्य 15वीं लोक सभा से पुनः निर्वाचित हुए हैं (150 पुरुष और 19 महिलाएं)।
  • 30 सदस्यों के पास राज्य सभा का अनुभव है।
  • 211 सदस्य राज्यों में विधान सभा के सदस्य थे।
  • 25 सदस्य राज्यों में विधान परिषद के सदस्य थे।
  • नौ बार निवाचित सदस्य श्री कमल नाथ लोक सभा के वरिष्ठतम सदस्य हैं। उन्हें वर्तमान लोक सभा का सामयिक अध्यक्ष चुना गया।
  • महिला सदस्यों में, श्रीमती सुमित्रा महाजन को नौवीं से सोलहवीं लोक सभा तक एक ही निर्वाचन क्षेत्र, इंदौर (मध्य प्रदेश) से लगातार आठ बार निर्वाचित होने का गौरव प्राप्त है। श्रीमती महाजन को 6 जून, 2014 को 16वीं लोक सभा के अध्यक्ष पद के लिए सर्वसम्मति से निर्वाचित किया गया।

16वीं लोक सभा के लिए पहली बार निर्वाचित सदस्यों में से उत्तर प्रदेश से 54 नए सदस्य चुने गए हैं जो सर्वाधिक हैं। तमिलनाडु से 35 सदस्य चुने गए हैं जो दूसरा सबसे बड़ा समूह है।

पहली बार निर्वाचित सदस्य (राज्य-वार)
राज्य का नामसंख्याकुल सीटेंप्रतिशत
आंध्र प्रदेश182572.00
असम081457.14
बिहार174042.50
चण्डीगढ़0101100.00
छत्तीसगढ़061154.54
दिल्ली0707100.00
गोवा010250.00
गुजरात152657.69
हरियाणा071070.00
हिमाचल प्रदेश010425.00
जम्मू और कश्मीर040666.66
झारखण्ड061442.85
कर्नाटक112839.28
केरल042020.00
लक्षद्वीप0101100.00
मध्य प्रदेश142948.27
महाराष्ट्र294860.41
नागालैंड0101100.00
ओडिशा122157.14
पुदुचेरी0101100.00
पंजाब061346.15
राजस्थान182572.00
तमिलनाडु353989.74
तेलंगाना101758.82
त्रिपुरा0202100.00
उत्तर प्रदेश548067.50
उत्तराखंड030560.00
पश्चिम बंगाल234254.76

16वीं लोक सभा की महिला सदस्य

16वीं लोक सभा में 62 महिलाएं निर्वाचित हुई हैं। यह अब तक की सर्वाधिक संख्या है जो कुल सदस्य संख्या 543 का 11 प्रतिशत है। निर्वाचित महिला सदस्यों की संख्या जो पहली लोक सभा में 22 और दूसरी लोक सभा में 27 थी, 15वीं लोक सभा में बढ़कर 59 हो गई थी। महिला विजेताओं की सबसे कम संख्या 1977 में छठी लोक सभा में 19 थी।

16वीं लोक सभा में महिला सदस्यों की संख्या और प्रतिशत
पुरुष48188%
महिलाएं6211%

16वीं लोक सभा में 18 राज्यों और दो संघ राज्यक्षेत्रों, अर्थात् दिल्ली और चंडीगढ़ की महिला प्रतिनिधि हैं। प्रतिशत के संदर्भ में, 29 प्रतिशत महिला सदस्यों के साथ पश्चिम बंगाल का सर्वाधिक महिला प्रतिनिधित्व है। इस राज्य में 42 सदस्यों में से 12 महिला सदस्य हैं। उत्तर प्रदेश में 80 सीटों में से 13 महिला सदस्य चुनी गई हैं जो संख्या के मामले में सभी राज्यों में सर्वाधिक है।

महिला सदस्यों की राज्य-वार संख्या और उनका प्रतिशत
महिला संसद सदस्यों की संख्यासंसद सदस्यों की कुल संख्यामहिला संसद सदस्यों का प्रतिशत
पश्चिम बंगाल124229
उत्तराखंड1520
मध्य प्रदेश52917
जम्मू और कश्मीर1617
उत्तर प्रदेश138016
गुजरात42615
दिल्ली1714
असम21414
महाराष्ट्र54810
तमिलनाडु43910
ओडिशा22110
बिहार3408
पंजाब1138
आंध्र प्रदेश2258
तेलंगाना1176
केरल1205
राजस्थान1254
कर्नाटक1284
चंडीगढ़11100
छत्तीसगढ़1119.09

16वीं लोक सभा के लिए दल-वार निर्वाचित महिला सदस्यों की संख्या दशाई गई है। 16वीं लोक सभा में 15 राजनीतिक दलों की महिला प्रतिनिधि हैं। 30 सदस्यों के साथ, भारतीय जनता पार्टी का सर्वाधिक प्रतिनिधित्व है और अखिल भारतीय तृणमूल कांग्रेस की 11 महिला सदस्य हैं जो दूसरी सबसे बड़ी संख्या है। 16वीं लोक सभा में नौ राजनीतिक दलों की एक-एक महिला प्रतिनिधि है।

भारतीय जनता पार्टी
भारतीय जनता पार्टी, बीजेपी30
अखिल भारतीय तृणमूल कांग्रेस, अभातृकां11
भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस, भाराकां4
आल इण्डिया अन्ना द्रविण मुनेत्र कषगम, अन्नाद्रमुक4
बीजू जनता दल, बीजद2
युवजन श्रमिक कांग्रेस पार्टी, युश्ररिकांपा2
भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी, मार्क्सवादी1
तेलंगाना राष्ट्र समिति1
शिव सेना1
राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी1
लोकजनशक्ति पार्टी1
समाजवादी पार्टी1
शिरोमणि अकाली दल1
अपना दल1

16वीं लोक सभा की महिला सदस्यों की औसत आयु 47 वर्ष है जो लोक सभा के कुल सदस्यों की औसत आयु अर्थात् 53.8 की तुलना में काफी कम है। उल्लेखनीय है कि पुरुष सदस्यों की औसत आयु 54.68 वर्ष है। सबसे कम आयु वर्ग 25-30 में 5 और सबसे बड़े आयु वर्ग 71-75 में 3 महिला सदस्य हैं। 41-45 वर्ष के आयु वर्ग में 10 सदस्य हैं जबकि अन्य 10 सदस्य 46-50 आयु वर्ग में हैं, जिसका अर्थ है कि कुल निर्वाचित महिला सदस्यों में से लगभग एक तिहाई सदस्य 41 से 50 के बीच के आयु वर्ग में से हैं। 62 महिला सदस्यों में से 22 सदस्यों (35.48 प्रतिशत) की आयु 50 वर्ष से अधिक है।

महिला सदस्यों का विभिन्न आयु वर्गों में विभाजन

25-305
31-357
36-408
41-4510
46-5010
51-557
56-602
61-656
66-704
71-753
76-80-
महिला सदस्यों का विभिन्न आयु वर्गों में वितरण
25-305
31-357
36-408
41-4510
46-5010
51-557
56-602
61-556
65–704
71-753

सभी 62 महिला सदस्यों की शैक्षिक योग्यता विवरण है। 27 महिला सदस्य (43 प्रतिशत) स्नातकोत्तर/व्यावसायिक स्नातकोत्तर हैं। 18 महिला सदस्य स्नातक/व्यावसायिक स्नातक हैं। तीन का महिला सदस्य अवर मैट्रिक हैं।

महिला सदस्यों की शैक्षिक योग्यता
शैक्षिक योग्यतासदस्यों की संख्याप्रतिशत
अंडर मैट्रिकसर्टिफाइड कोर्स034.83
मैट्रिक1320.96
अंडर ग्रेजुएट011.61
ग्रेजुएट/प्रोफेशनल ग्रेजुएट1829.03
पोस्ट ग्रेजुएट प्रोफेशनल पोस्ट ग्रेजुएट2743.54

16वीं लोक सभा की महिला सदस्यों में से 21 महिला सदस्य सामाजिक/ राजनीतिक कार्यकर्ता हैं। 11 महिला सदस्य कृषि से जुड़ी हैं, 6 व्यवसायी  और 5 अधिवक्ता हैं। यह उल्लेखनीय है कि 62 महिला सदस्यों में 6 कलाकार और 6 चिकित्सक हैं जो कुल महिला सदस्यों का लगभग 20 प्रतिशत है।

महिला सदस्यों का व्यवसाय
व्यवसायमहिला सदस्यों की संख्याप्रतिशत
राजनीतिक और सामाजिक कार्यकर्ता2133.87
कृषक/किसान1117.74
व्यवसायी69.67
अधिवक्ता58.06
कलाकार69.67
चिकित्सक69.67
शिक्षक/शिक्षाविद्/लेखक58.06
अवकाश प्राप्त सरकारी कर्मचारी11.61
गृहिणी11.61

16वीं लोक सभा के लिए पहली बार निर्वाचित 4o महिला सदस्यों में से उत्तर प्रदेश से 9 महिला सदस्य निर्वाचित हुई हैं जबकि पश्चिम बंगाल से वर्तमान लोक सभा के लिए 8 महिला सदस्य पहली बार निर्वाचित हुई हैं। उल्लेखनीय है कि 62 महिला सदस्यों में से 40 सदस्य पहली बार निर्वाचित हुई हैं जोकि कुल महिला सदस्यों का 64.51 प्रतिशत है।

16वीं लोक सभा में पहली बार निर्वाचित महिला सदस्य (राज्य-वार)
राज्य का नाममहिला सदस्यों की संख्याकुल सीटों की संख्या
आन्ध्र प्रदेश0225
असम0114
बिहार0140
चण्डीगढ़0101
दिल्ली0107
गुजरात0226
कर्नाटक0128
केरल0120
मध्य प्रदेश0229
महाराष्ट्र0348
ओडिशा0221
राजस्थान0125
तमिलनाडु0439
तेलंगाना0117
उत्तर प्रदेश0980
पश्चिम बंगाल0842

कुछ मुख्य निष्कर्षों में अन्य बातों के साथ-साथ निम्न शामिल हैं:

  • 16वीं लोक सभा के सदस्यों की औसत आयु 53.8 वर्ष है और यह दूसरी सर्वाधिक आयु वाले सदस्यों की सभा है, हालांकि महिला सदस्यों की औसत आयु 47 वर्ष है जोकि काफी कम है; 16वीं लोक सभा के लिए 62 महिला सदस्य निर्वाचित हुई हैं जोकि सर्वाधिक संख्या हैं।
  • यह उल्लेखनीय है कि पश्चिम बंगाल की 42 सीटों पर 12 महिलाएं निर्वाचित हुई हैं जोकि 29 प्रतिशत है।
  • 16वीं लोक सभा की एक विशेषता यह है कि 315 सदस्य पहली बार निर्वाचित हुए हैं। 481 पुरुष सदस्यों में से 275 सदस्य पहली बार निर्वाचित हुए हैं जोकि 57.17 प्रतिशत है।
  • 62 महिला सदस्यों में से 40 महिलाएं पहली बार निर्वाचित हुई हैं जोकि 64.51 प्रतिशत हैं।
  • 315 नए सदस्यों में से 190 सदस्यों (60.31 प्रतिशत) ने पहली बार विधायी क्षेत्र में प्रवेश किया है।
  • 16वीं लोक सभा में विविध व्यवसाय वाले सदस्यों का प्रतिनिधित्व है किंतु इसमें कृषि और सामाजिक कार्यकर्ता वर्ग से सर्वाधिक सदस्य निर्वाचित होकर आए हैं।
  • वर्तमान लोक सभा में 77 प्रतिशत से अधिक सदस्यों की शैक्षिक योग्यता स्नातक और इससे अधिक है और इनमें 26 चिकित्सक और 33 डॉक्टरेट की उपाधि प्राप्त सदस्य शामिल हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Mobile application powered by Make me Droid, the online Android/IOS app builder.