भूकंप एवं ज्वालामुखी-कितने ख़तरनाक Earthquakes And Volcano-How Dangerous

दुनिया में सबसे ज़्यादातर भूकंप और ज्वालामुखी  ऐसे जगह पाए जाते हैं जहाँ टेक्टोनिक प्लेट आपस में मिलती हैं| ऐसी एक सबसे क्रियाशील जगह प्रशांत प्लेट है जिसे 'रिंग ऑफ फायर' कहा जाता है|

सन् 1557 में मध्य चीन में आये एक भयानक भूकंप में गुफाओं में रहने वाले 83,000 लोग मारे गये थे| तन्ग्शन चीन में ही सन् 1976 में 8.2 तीव्रता के एक शक्तिशाली भूकंप में करीब 250,000 लोग मारे गये थे|

दुनिया का सबसे भयानक 9.5 तीव्रता का भूकंप दक्षिण चिली में सन् 1960 में आया था इसकी वजह से सुनामी पैदा जिसने जापान, हिलो, हवाई, फिलिपीन्स में 2200 लोगों की जान ले ली थी|  इस भूकंप की वजह से चिली में 6  ज्वालामुखी भी फट परे थे| दूसरा 9.2 तीव्रता का भूकंप अलास्का में 1964 में आया था इसमें 114 लोग मारे गये थे|

हर साल दुनिया भर में लगभग 500000 भूकंप आते हैं जिसमें से लगभग 100000 लोगों द्वारा महसूस किए जाते हैं और 100 नुकसानदायक होते हैं|

बहुत सारे ज्वालामुखी समुद्र तल पर पाए जाते हैं| इसमें से 30000 मील(48300 किमी.) लंबी एक ज्वालामुखी की शृंखला पाई जाती है इसे मध्य-सागरीय चोटियाँ कहते हैं|दुनिया भर में लगभग 60  ज्वालामुखी हर साल फटते हैं इसमें सबसे ज़्यादा इंडोनेशिया और जापान में|

टेक्टोनिक प्लेट क्या है ?

पृथ्वी की पपड़ी कई भागो में टूटी है जिसे वैज्ञानिक टेक्टोनिक प्लेट कहते हैं| यह निश्चित रूप से नहीं कहा जा सकता पृथ्वी में कितनी टेक्टोनिक प्लेट हैं, एक अनुमान के अनुसार इनकी संख्या 20 से 40 हो सकती है| जब ये प्लेट आपस में टकराती हैं तो भूकंप आते हैं|


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *