कैरेबियन राज्य संघ Association of Caribbean States - ACS

यह संघ आर्थिक सहयोग और एकीकरण को प्रोत्साहित करने के उद्देश्य से कैरेबियाई देशों को एक मंच पर लाता है।

मुख्यालय: पोर्ट-ऑफ-स्पेन (त्रिनिदाद और टोबैगो)।

सदस्यता: एंटीगुआ और बारबुडा, बारबाडोस, बेलीज़, कोलम्बिया, कोस्टा रिका, क्यूबा, डोमिनिका, डोमिनिकन गणराज्य, अल साल्वाडोर, ग्रेनाडा, ग्वाटेमाला, गुयाना, हैती, होंडुरास, जमैका, मेक्सिको, निकारागुआ, पनामा, सेंट किट्स और नेविस, सेंट लुशिया, सेंट विंसेंट और ग्रेनेडाइंस, सूरीनाम, बहामा, ट्रिनिडाड और टोबैगो तथा वेनेजुएला।

सहयोगी सदस्य: अरूबा, फ्रांस (ग्वाडेलोपे, फ्रेंच गुयाना और मार्टिनिके की ओर से), टर्क्स और कैकोस द्वीप समूह।

उद्भव एवं विकास

क्षेत्रीय एकीकरण लाने की दिशा में कैरीकॉम (CARICOM) के असफल प्रमाणित होने के बाद 1990 के दशक के आरम्भ में कैरेबियाई देशों ने एक ऐसे संगठन की स्थापना पर बल दिया, जो नाफ्टा (NAFTA) के समकक्ष होता है। कैरिबियाई राज्य संघ (Association ofCaribbean States-ACS) के गठन का प्रस्ताव सबसे पहले 1992 के कैरीकॉर्म शिखर सम्मेलन के दौरान वेस्ट इण्डियन आयोग द्वारा रखा गया तथा कैरीकॉम शिखर सम्मेलन, 1993 ने इस नए समूह के गठन को अपनी स्वीकृति प्रदान की। 25 देशों [कैरीकॉम के 13 सदस्य, समूह-3 देश (कोलम्बिया, मैक्सिको और वेनेजुएला) तथा क्षेत्र के 9 अन्य देश] ने एसीएस के गठन के लिये कार्टजेना डी इण्डियाज (कोलम्बिया) में 24 जुलाई, 1994 को एक संधि पर हस्ताक्षर किए।

उद्देश्य

एसीएस के प्रमुख उद्देश्य हैं- कैरेबियाई देशों में आर्थिक एकीकरण को प्रोत्साहन देना तथा मुक्त व्यापार और सहयोग के क्षेत्रों में विस्तार लाना; अंतर्राष्ट्रीय अर्थव्यवस्था के भूमंडलीकरण तथा अर्द्ध-वृत्ताकार व्यापार संबंधों में उत्तरोत्तर उदारीकरण से उत्पन्न अवसरों का दोहन करना, और; क्षेत्र की आर्थिक चुनौतियों का सामना करना। इसके अतिरिक्त कैरेबियाई सागर की पर्यावरणीय अखण्डता के संरक्षण तथा वृहद कैरेबियन के सतत विकास पर विशेष ध्यान देना।

संरचना

एसीएस राष्ट्राध्यक्षों/शासनाध्यक्षों की बैठकों, मंत्रिपरिषद और सचिवालय से बना होता है।

मंत्रिपरिषद एसीएस का मुख्य निर्णयकारी अंग है। यह विशेष समितियां गठित कर सकती है, जैसे-व्यापार और विदेशी आर्थिक संबंधों पर समिति तथा बजट एवं प्रशासन पर समिति। सचिवालय का प्रधान अधिकारी महासचिव होता है, जिसकी नियुक्ति पांच वर्षों के लिये होती है। सचिवालय प्रशासनिक कार्यों के लिये उत्तरदायी होता है। सदस्य देशों के शासनाध्यक्षों/राष्ट्राध्यक्षों की बैठक में संगठन की मौलिक नीतियों का निर्धारण होता है।

गतिविधियां

एसीएस ने अपने पहले शिखर सम्मेलन (1995) में क्षेत्रोत्तर (extra-regional) तथा अन्तरा-क्षेत्रीय (intra-regional) निजी निवेश के द्वारा आर्थिक एकीकरण को प्रोत्साहन देने तथा एक क्षेत्रीय पर्यटन रणनीति विकसित करने के लिये एक कार्य योजना तैयार की। क्यूबा में 1996 में आयोजित शिखर सम्मेलन क्षेत्रीय अवैध औषधि व्यापार पर निषेध लगाने पर केंद्रित रहा तथा इसमें आर्थिक लेन-देन से जुड़ी समस्याओं से निबटने के लिये एक क्षेत्रीय एकीकरण कोष के गठन का प्रस्ताव रखा गया। शिखर सम्मेलन ने क्यूबा पर अमेरिकी आर्थिक प्रतिबंधों की भी निंदा की। 1997 में एसीएस एक संस्थिर पर्यटन क्षेत्र गठित करने और क्षेत्र में व्यापार अवरोधों को कम करने वाली गतिविधियों को प्रोत्साहन देने के लिये तैयार हुआ। कैरीकॉम तथा एसीएस ने आपसी गतिविधियों में समन्वय स्थापित करने के लिये एक संधि पर हस्ताक्षर किए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Mobile application powered by Make me Droid, the online Android/IOS app builder.